अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

28 - विदेशी बहू

26 जून 2003 
विदेशी बहू

भार्गव जी को हल्की सी डायबिटीज़ है। ख़ूब घूमते-फिरते हैं पर कभी कभी बदपरहेज़ी कर ही लेते हैं। 

एक दिन बहू शीतल बड़ी गंभीरता से बोली, "मम्मी जी आप पापा जी को हर दो घंटे बाद खाने को दिया करें। यदि एक समय ज़्यादा या नुक़सान देने वाली चीज़ खाने लगें तो मना कर दें।"

"बेटी, मैं एक बार कहती हूँ दुबारा नहीं। यदि उसका मोल नहीं समझा जाता तो मुझे बुरा लगता है।"

"अरे मम्मी जी, अपनों का कोई बुरा माना जाता है। यदि कुछ अनहोनी हुई तो सबसे ज़्यादा आपको ही सहन करना पड़ेगा। आपके बेटे अगर कोई ग़लत काम करेंगे तो मैं बार–बार टोकूँगी चाहे उनको कितना ही बुरा लगे।" 

मैं चुप आज्ञाकारी बच्चे की तरह उसकी बातों की गहराई में डुबकी लगा रही थी। कौन कहता है नई पीढ़ी बुज़ुर्गों का ध्यान नहीं रखती। शायद समझने में ग़लती हुई है बड़ों से। 

यह वही शीतल है जिसे मेरे बेटे ने ख़ुद पसंद करके अपना जीवन-साथी चुना था। जब उसने अपने निर्णय की सूचना मुझे दी तब मैं भारत में थी और वे दोनों एडमंटन (Edmonton) में। माँ-बाप की ख़ुशी तो बच्चों की ख़ुशी में है सो हम मिया-बीबी ने तुरंत सहमति दे दी। दूसरे मुझे पूरा-पूरा विश्वास था कि वह जो भी क़दम उठाएगा सोच समझकर उठाएगा। लेकिन संशय की दीवार सिर उठाने से बाज न आई। सोचने लगी-विदेश में रही व पढ़ी-लिखी लड़की हम बड़ों को सम्मान दे पाएगी या नहीं! सो पूछ लिया फोन पर ही - "बेटा, मेरी होने वाली बहू सुबह उठकर एक प्याला चाय तो दे देगी?” 

"हाँ माँ,उससे भी ज़्यादा।" 

सच, शीतल से जितनी मान-सम्मान मिला उसकी उम्मीद न थी। माँ बनने पर वह मेरे पोती-पोते को ज़रूर अच्छे संस्कार देगी। 

क्रमश:-

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

01 - कनाडा सफ़र के अजब अनूठे रंग
|

8 अप्रैल 2003 उसके साथ बिताए पलों को मैंने…

02 - ओ.के. (o.k) की मार
|

10 अप्रैल 2003 अगले दिन सुबह बड़ी रुपहली…

03 - ऊँची दुकान फीका पकवान
|

10 अप्रैल 2003 हीथ्रो एयरपोर्ट पर जैसे ही…

04 - कनाडा एयरपोर्ट
|

10 अप्रैल 2003 कनाडा एयरपोर्ट पर बहू-बेटे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

डायरी

लोक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं