अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आम और ख़ास

जिसे देखिये कुछ 
साबित करने में लगा है
कोई देर रात तक तो कोई 
अलसुबह से जगा है,
यूँ भी नहीं कि बात ये बुरी है
सच पूछिए तो यही 
प्रगति की धुरी है


पर यदि कुछ बुरा है तो ये 
हर पल का दबाव और तनाव
और बुरा है इस अँधी दौड़ में -
खो देना सहज भाव


जाने ये कैसा समाज हमने रचा है
जिसके केंद्र में बस व्यक्ति पूजा है
ये कैसी  ’वीआईपी’ संस्कृति है, 
ये कैसी सेलिब्रिटी वंदना है,
जहाँ बड़ा ही कष्टप्रद 
आम और ना कुछ होना है


तो क्या अचरज यदि हर आम. . .  
ख़ास बनने को लालायित है,
और हर ख़ास अपनी ही 
गढ़ी छवि से प्रतिपल भयभीत है,
एक कुंठा और
 विषाद में जी रहा है
तो दूजा रहता भय और 
असुरक्षा से घिरा है


इस रस्साकशी में 
सरल जीवन का 
सुख ही खो गया है
और हर कोई 
महत्वाकांक्षा के हाथों की 
कठपुतली हो गया है
बिना ये जाने कि. . .
वस्तुतः न कोई 
आम है न कोई  ख़ास है
हर प्राणी नश्वर है 
हर वस्तु का होना ह्रास है


कुछ महान रचने की 
कोशिश ही बचकानी है
हर सृजन अंततः 
पानी पर लिखी कहानी है


तो जो रोज़मर्रा के 
साधारण जीवन को
निष्कपट प्रेम एवं 
शांति से जीता है
वही सतत बहते 
जीवन के झरने से, 
आनद का अमृत जल पीता है!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं