अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आसमानी आफ़त

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से कहा, "साथियो! घबराने की ज़रूरत नहीं है। हम यहाँ से दुष्ट लालू लोमड़ को भगाने का कोई न कोई उपाय अवश्य करेंगे।"

तभी लालू लोमड़ उस पेड़ के नीचे आ धमका।

बंटी ने फुसफुसा कर कहा, "हमें जल्दी ही इस आफ़ती पेड़ को छोड़ देना चाहिए।"

"जी! आप सही कहते हैं," कालू बंदर ने कहा और बंटी बंदर के साथ दूसरे पेड़ पर चला गया।

लालू ने यह बात सुन ली थी, "यह आफ़ती पेड़ है।" मगर, उस ने अपने सिर को झटका दिया, "हो सकता है, बंदर उसे यहाँ से भगाने के लिए कोई तरकीब लगा रहे हों। इसलिए वह पेड़ के नीचे बैठ गया।

उसी समय आसमान में बादल छाने लगे। पानी का मौसम था। बिजली गरजने लगी। तभी पास के पेड़ पर बैठे बंटी बंदर ने इशारा किया।

दूसरा बंदर आफ़ती पेड़ पर गया।

तभी धड़ाम की आवाज़ आई। कोई भारी-भरकम चीज़ लालू के पैर पर गिरी। वह ज़ोर से चीख उठा, "अरे मरा! कोई बचाओ," कहते हुए वह डर के मारे भागने लगा।

लालू के पैर पर ज़ोरदार चोट लगी थी। उस से चलते नहीं बन रहा था। वह लंगड़ा कर भागने लगा।

तभी पीछे से बंटी ने चिल्ला कर कहा, "अरे महाराज! कहाँ भागे जा रहे हैं। आप इस आफ़ती पेड़ का इलाज करते जाइए।" मगर, वहाँ सुनने वाला कौन था। लालू कब का नौ दो ग्यारह हो चुका था।

हुआ यह था कि बंटी बंदर ने अपनी योजना के मुताबिक पेड़ पर फैली बेल पर लगे कद्दू में से एक कद्दू काट कर नीचे गिरा दिया था। वह कद्दू सीधे लालू के पैर पर गिरा था। जिसे आसमानी आफ़त समझ कर लालू डर कर भाग गया।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

इमली
|

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा …

ईमानदारी का फल
|

 चन्दनपुर गाँव में एक किसान रहता था।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

बात-चीत

लघुकथा

बाल साहित्य कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं