अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आत्महत्या 

ख़बर आयी है अभी
एक कलाकार ने कर ली है आत्महत्या 
कल भी और उससे पहले भी 
आयी थी ऐसी ही ख़बर कि 
एक विद्यार्थी ने, एक औरत ने, 
एक युवक ने,एक वृद्ध ने 
एक भूखे ने, एक नाकाम ने
एक प्रसिद्ध आदमी ने,
और एक आम ने,
खा लिया है ज़हर,
ऊँची इमारत से कूद कर दे दी है जान
गले में लगा लिया है फंदा 
तेज़ भागती रेल की पटरी पर 
कट कर दे दिए हैं  प्राण 


आत्महत्या में ‘आत्म’ तो मरता है 
पर ‘हत्या’ हो जाती है बरी 
खुद से बेपनाह मुहब्बत करने वाला इंसां
कैसे ख़ुद से करता है यह धोखाधड़ी 


वो निर्ममता से ख़ून करता है 
अपनी भावनाओं का...
अपने सपनों का...
अपने माज़ी का...
अपने मुस्तकबिल का ...
हर उस एहसास का ...
जो उसे अज़ीज़ था ...
हर  वो रिश्ता...
जो उसके क़रीब था ...  


उस समय उसकी आँखों में 
होती है वहशत या दहशत 
ये कौन जान सकता है 
शायद खड़ा रहता है वह 
किसी अंधकूप के मुहाने पर 
जिसके भीतर से कोई 
उसे पुकारता है ज़ोर ज़ोर से 
जिसे वह अनसुना नहीं कर पाता 
उसके पूरे वजूद पर चिपक जाते हैं 
इन आवाज़ों के मकड़जाल 


छटपटाता तो होगा वो उन पलों में 
छूटने की आख़िरी कोशिश तो करता होगा 
लेकिन बंद दरवाज़े के बाहर की दुनिया का 
चिंघाड़ता तूफ़ान ज़्यादा ख़ौफ़नाक 
ज़्यादा काला और अँधेरा लगता होगा 
तब अंधकूप केअंतहीन अंधकार में 
झोंक देना ख़ुद को 
लगता होगा सुकूनदायक
सारे शोर से मुक्त होने का एक रास्ता 
बदहवास नींद रहितआँखों को 
जैसे आरामदायक नींद का वास्ता 


अपनी देह पर हल्की सी खरोंच 
ज़रा सी आँच भी ना सह पाने वाला 
कैसे आक्रामक हिंसक हो जाता है 
और अपने ही आप को नोच खाता है 


ये वो हत्या है जिसकी सज़ा-ए- मौत 
तय है हत्यारे के लिए हर हाल में 
बस बेदाग़ बच जाते हैं वो सब 
जो हत्या की साज़िश में शामिल थे 
स्वार्थी, लोभी भेड़िए मनुज की खाल में


फिर चंद लफ़्ज़ों में 
निपट जाती है इक ज़िंदगानी 
टीसती यादें, मुट्ठी भर राख 
और कुछ आँखों में पानी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कार्यक्रम रिपोर्ट

कविता

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं