अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अब बस जूते का ज़माना है

हर ब्राण्ड के जूते की 
अपनी क़िस्मत
अपना मान और
 उचित स्थान होता है।
किसी को पैर तक भी 
नसीब नहीं होता
और कोई जूता 
सर तक चढ़ जाता है।
जूता सर तक 
क्योंकर चढ़ जाता है?
उसे पता होता है कि 
कहाँ तक जाना है।

उसका इस्तेमाल 
किसने कब, कैसे किया है 
कभी उठाकर, कभी चाट कर, 
और कभी मारकर।
जूता सर तक यूँ ही नहीं 
चढ़ जाता है, कि वह जूता है,
स्वतंत्र है, जहाँ चाहे चढ़े।
वह इसलिए भी 
सर तक चढ़ जाता है कि
उसे पता है किसका है, 
कितना मज़बूत है।

कभी उसे -
अपने "गुण्डत्व" का मान होता है 
और कभी, बड़े होने का भी 
गुमान होता है। 
शायद इसलिए झट से... 
हाथ में आ जाता है
जूता तो आख़िर 
जूता ही होता है ना -
उसकी औक़ात क्या...
उसकी बिसात क्या?

पहनने वाले से 
उसकी औक़ात होती है।
ब्राण्ड कोई हो 
जूते को कौन पूछता है? 
कभी पहन कर 
आपकी शान बढ़ता है।
कभी प्रतिद्वंद्वी के 
सर पर चढ़ कर 
शान से नया -
अमिट इतिहास बनाता है।

जूता होना कोई 
बड़ीअनोखी बात नहीं है
जूता किसका है -
बस यही ख़ास बात है। 
ग़रीब मजदूर या 
आम आदमी के पड़े 
तो वह तो बस,
उसी के लायक़ होता है।
जूता माननीय द्वारा- 
माननीय के पड़े 
तो लोकतंत्र के 
चेहरे पर दाग़ होता है। 

मुझे समझ नहीं आता कि 
यह जूता विविध रूप 
कैसे और कहाँ से अपनाता है
विविध इस्तेमाल 
कौन इसे सिखाता है?

कहीं यह श्रेष्ठ होने का 
दंभ तो नहीं
जो जूते को हर बार... 
नई राह दिखाता है 
कभी विरोधी के 
सर पर, कभी शरीर पर 
कभी-कभी गले में 
माला बन इतराता है। 

जूता जूता होता है 
जाने कब बिगड़ जाये 
और 4 सेकंड में 
सात बार पड़ने का
नया विश्व कीर्तिमान 
स्थापित हो जाये।

अब इससे 
माननीय भी थरथराने लगे हैं
देखा था, सुना था-
कभी जूते की नोक पर 
कभी जूते की ठोकर पर 
मगर यह आज
अब यह सारी हदें 
लाँघ कर आया है।
माननियों की भी 
ड्योढ़ी चढ़ आया है!
 
अब माननीय 
अपनी पार्टी के माननीय
और जनता के भेद को 
भी भूल बैठा है। 
उसमें भी समरसता 
का भाव आया है
जूता असल में अपनी 
औक़ात पे आया है।
क्यूँकि उसे आज- 
यह पता चल चुका है
कि अब बस जूते का ही ज़माना है। 
कि अब बस जूते का ही ज़माना है।

हरेन्द्र पाललखनऊ
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अहसास!
|

मुझे  उनकी यह बात  बहुत अखरती…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं