अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

26 - अबूझ पहेली

23 जून 2003

अबूझ पहेली

हम जब से ओटावा आए हैं, बेटा शाम को ऑफ़िस से घर जल्दी आने की कोशिश में रहता है। ऑफ़िस में समय से पाँच मिनट भी ज़्यादा रहना उसे अखरता है। एक दिन उसके बॉस ने उसकी इस जल्दबाज़ी को भाँप लिया। अवसर मिलते ही उसने निशाना लगा दिया- “चाँद, तुमको आजकल हमारे साथ बात करने का भी समय नहीं रहता!”

“इंडिया से मेरे माता-पिता आए हुए हैं।”

“कब तक रहेंगे?”

“तीन माह।”

“ती....न माह! क्यों?”

“क्योंकि वे मुझसे मिलने ही तो यहाँ आए हैं।”

“मेरे माता-पिता तो मुश्किल से मेरे पास दस दिन रह पाते हैं। एक हफ़्ते बाद ही मेरी माँ का पत्नी से झगड़ा होने लगता है।”

“मेरा तो यहाँ कोई भाई-बहन भी नहीं है। मुझे उनकी याद बहुत सताती है। घर–गृहस्थी की ज़िम्मेदारियों के कारण वे मेरे पास जल्दी-जल्दी नहीं आ सकते। क़रीब तीन वर्ष के बाद आए हैं। मैं तो पल-पल उनके साथ रहना चाहता हूँ। उनके आने से लग रहा है मानो मेरा बचपन लौट आया है।”

बॉस अवाक होकर चाँद की बात सुनता रहा। फिर उसने किसी दिन उसे नहीं टोका। उसके लिए चाँद की माता-पिता के प्रति आसक्ति अबूझ पहेली थी।

 क्रमशः-

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

01 - कनाडा सफ़र के अजब अनूठे रंग
|

8 अप्रैल 2003 उसके साथ बिताए पलों को मैंने…

02 - ओ.के. (o.k) की मार
|

10 अप्रैल 2003 अगले दिन सुबह बड़ी रुपहली…

03 - ऊँची दुकान फीका पकवान
|

10 अप्रैल 2003 हीथ्रो एयरपोर्ट पर जैसे ही…

04 - कनाडा एयरपोर्ट
|

10 अप्रैल 2003 कनाडा एयरपोर्ट पर बहू-बेटे…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

डायरी

लोक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं