अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अमरेश सिंह भदौरिया - मुक्तक - 4

1.
चंद सपने  और  कुछ  ख़्वाहिशें हैं आसपास।
दूर ले जाती है मुझको आबो दाने की तलाश।
तन्हाई,   चिंता,   घुटन,   बेबसी,   मज़बूरियाँ,
बदलती हैं  रोज़  अपने-अपने ढ़ंग से लिबास।
2.
वक़्त बीते की  कहानी कौन लिखता है।
आजकल बातें  पुरानी कौन लिखता है।
चाँदनी   ही  रही  हरदम  चर्चा  में  यहाँ,
स्याह रातों की कहानी कौन लिखता है।
3.
कभी क़िस्से में मिलती है
कभी मिलती  कहानी में।
सुखद अहसास-सी है वो
महकती   रातरानी     में।
करूँ तारीफ़  भी  कितनी
भला उसके हुनर  की  मैं,
मधुर-मुस्कान-से   अपनी
वह लगाती आग पानी में।
4.
किसी की सुबह अच्छी है,
किसी की शाम अच्छी है।
जोड़ दे  टूटे  दिल को जो,
वो   राम-राम  अच्छी  है।
दुआ   के   वास्ते  जिसमें
हज़ारों   हाथ   उठते   हों,
बस  वही  प्रार्थना  अच्छी
वही  अज़ान   अच्छी  है।
5.
नगद    चाहिए,   न   उधार   चाहिए।
आदमी को आदमी का प्यार चाहिए।
दिल-से   मिलें, और  दिल  भी  मिले,
रिश्तों   में   मधुर   व्यवहार   चाहिए।
6.
किसी को हार मिली  यहाँ
किसी के हिस्से जीत रही।
वसुधैव    कुटुंबकम   की
जहाँ  सनातन  रीति  रही।
ज़िंदगी  का  फ़लसफ़ा  यूँ
आजकल  उलझा हुआ है,
कलह से होती सुबह  और
शाम सुलह  में   बीत रही।
7.
भाई  के  हित भाई  का  समर्पण  हमें वो चाहिए।
दुश्वारियों में साथ दे जो लक्ष्मण  हमें वो चाहिए।
सिर्फ़  चेहरे  पढ़  लेना  ही शायद  नही बाज़ीगरी,
नियति को भी पढ़ सके जो दर्पण हमें वो चाहिए।
8.
ज़मीं  है  अपनी आसमाँ है अपना।
कहने  को  सारा  जहाँ  है  अपना।
समझने  जाती  है   दृष्टि  दूर  तक,
नज़दीक    कौन   यहाँ  है  अपना।
9.
संकल्प सृजन  का लेकर
क़लम सिपाही चलता है।
अपने  मज़बूत  इरादों  से
हर परिदृश्य  बदलता  है।
घोर  अमावस   में  काली
रातों की स्याही छँटती है,
जहाँ  में  तब   कहीं  दीप
दीवाली  का   जलता  है।
10.
परदे   की    परिभाषा      देखो।
सब  कुछ  यहाँ  ख़ुलासा  देखो।
अधिक चाहिए अगर तुम्हें  कुछ,
ख़ुद  घर  फूँक   तमाशा   देखो।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

कविता

कहानी

नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं