अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अमरेश सिंह भदौरिया - मुक्तक - 6

1.
शबनमी होंठों का अहसास ग़ज़ल है।
प्रीति और प्रेम का आभास ग़ज़ल है।
महलों में रही जो अधिकार की तरह,
आज भाईचारे का  विश्वास ग़ज़ल है।
2.
माँ  बोली  मीठी  भाषा   हमारी  है  हिंदी।
तुलसी, कबीर, रसखान  दुलारी है  हिंदी।
हो तुम्हें प्यार   किसी और भाषा से मगर,
"अमरेश" हमें  प्राणों  से प्यारी  है  हिंदी।
3.
भूख   से  व्याकुल   परिंदे  बैठे  हैं डाल में।
बहेलिये  ने दानें बिखेरे हैं मतलबी जाल में।
पापी पेट के लिए संघर्ष दोनों ओर जारी है,
राम  जाने सुलझेगा  ये  प्रश्न किस हाल में।
4.
नज़दीकियाँ  हों  साथ ही फ़ासला ज़िंदा रहे।
आदमी का आदमी से यहाँ वास्ता ज़िंदा रहे।
नेह का  दरपन  न टूटे किसी  समयाघात से,
मानवी सभ्यता का ये  फ़लसफ़ा  ज़िंदा रहे।
5.
जोड़ घटाव  चला  करता है जहाँ निवालों का।
स्वयं  ढूँढ़ना  पड़ता  उत्तर  सभी  सवालों का।
परछाई भी गुम  हो  जाती है अँधेरे  में आकर,
सबको साथ कहाँ मिलता है सदा उजालों का।
6.
मेरी  शायरी   का   इतना तो  असर  रखता है।
ग़ैर    होकर  भी   वो   मेरी   ख़बर  रखता है।
कामयाबी  'अमरेश'  उसकी  यहाँ  निश्चित है,
लक्ष्य पर अपने जो अर्जुन-सी नज़र रखता है।
7.
आपका   हँसना  अलग  और   मुस्कराना  है अलग।
चुपके-चुपके इस  तरह  से  दिल  में आना है अलग।
आपकी  जब  याद  आयी   सब  ख़्वाब मीठे हो गए,
दिल्लगी लगी तो अलग थी अब दिल लगाना है अलग।
8.
सफ़र  सुहाना  अगर  चाहिए  तो  पूरी तैयारी रख।
थोड़ी सी चालाकी रख  और थोड़ी होशियारी रख।
दुनियावी रिश्तों की फ़ितरत समझ नही यूँ आएगी,
दुनिया में  रहना  ही  है  तो  थोड़ी दुनियादारी रख।
9.
जब हृदय बोझिल  हुआ आँखें सजल हो गई।
मुस्कराये लफ़्ज़ तो फिर  ताज़ा ग़ज़ल हो गई।
किसी को ख़ुशियाँ   मिली  कोई   हुआ गमज़दा,
कोई डूबा सोच में और किसी से पहल हो गई।
10.
दिन  घटते  गये  उम्र  बढ़ती  गई।
ज़िंदगी  इस तरह  से  कटती गई।
नित नए स्वप्न पलकों में आते रहे,
समय की धूल उन पर चढ़ती गई।
11.
हम न होते   तुम न  होते  और  न शिकवे गिले।
तो कहो किस काम के  दुनिया में होते फ़ासले।
इस क़दर उलझा न होता ज़िंदगी का फ़लसफ़ा,
नज़दीकियाँ भी  अगर दिल  में बनाती  मरहले।
12.
मुठ्ठी   में   रही  जिसकी  यहाँ   सारी  क़ायनात।
रुख़सत हुआ सिकंदर भी दुनिया से ख़ाली हाथ।
शोहरत  की  बुलंदी  का  फिर  कैसा  गुमां प्यारे,
हिस्से  में  सभी  के जब  यहाँ रहनी है वही बात।
13.
स्वप्न हमारे तुमसे मिलने रात में आयेंगे।
निंदियारे नयनों की  कोरों  में  समायेंगे।
दिल की दहलीज़ पर इक दस्तक होगी,
सुन लेना तुम,  भाग  हमारे जग जायेंगे।
14.
सज धज  कर  वो  रहती है बाज़ार की तरह।
ख़ुशियाँ है जिसके हिस्से में त्योहार की तरह।
बेसब्री  से  जिसका मैं  रोज़ करता हूँ इंतज़ार,
बस आती नज़र वो मुझको रविवार की तरह।
15.
शाम ढलने  लगी  है चले  आइये।
दर्दे दिल है न यूँ और तड़पाइये।
बिन तुम्हारे अधूरी-सी है  ज़िंदगी,
समझदार हो ख़ुद  समझ जाइये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता-मुक्तक

कविता

कहानी

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं