अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अंधे की लाठी

(1)
वो अंधा था
कपड़े फटे-चिथड़े थे
पैरों में बिवाइयाँ थीं
फिर भी चेहरे पर
एक मुस्कान थी।


देख रही थीं अंधी आँखें
इधर-उधर, नाचती हुई
चाल में उसके तेज़ी थी
गुनगुना रहे थे उसके होंठ।


हाथ में थी एक लाठी
जिसे एक छः साल के 
बच्चे ने पकड़ रखा था
बच्चे के चेहरे पर थी
एक मुस्कान
मासूम-सी, भोली-सी।


वो लोगों को देखते हुए
आँखें नचाते हुए
मुस्कुरा रहा था
और अपने मासूम चेहरे से 
पूछ रहा था एक सवालः
मुझे खेलने की आज़ादी नहीं है?
मुझे पढ़ने की आज़ादी नहीं है?
खेलते-पढ़ते हैं जैसे बच्चे
क्या मैं बड़ा हो गया हूँ?


छोड़ जाता है एक सवाल
और उछलता-कूदता हुआ
आगे बढ़ जाता है
उसकी नाचती हुई आँखें
उसका मासूम चेहरा
करते हैं हम सबसे
सवाल
जो परछाई की तरह
हमारा पीछा करती हैं।

 

(2)
बूढ़े का हाथ
बच्चे के कंधे पर है
बच्चे के हाथ में है
एक लाठी
जिसका सिरा
बूढ़े ने पकड़ रखा है
बच्चा
अपने नन्हें क़दमों से
डगमगाते हुए चल रहा है
कभी-कभी उछलने लगता है
देखकर किसी बच्चे को
बूढ़ा लड़खड़ा जाता है
बूढ़े को लड़खड़ाते देख
वो ठिठकता है
देखता है वो बेबसी से
अपने अंधे बाप को
फिर वो कछुए की तरह
चलने लगता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं