अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अन्तहीन

जी तो मैं तभी गया था।
जब आधी रात में मेरी नींद टूटी थी,
यह सोचते हुए,
कि तुमने कहा था!
मेरे बारे में तुम कब सोचते हो!


मैं तो मिट तभी गया था।
जब हाथों पर लिख कर मेरा नाम,
तुमने उसे मिटा दिया था।


भ्रम तो मेरा तभी टूट गया था।
तुम्हारे और मेरे दिशाहीन लगाव का,
जब दिन और रात में,
एक पल भी तुम याद न आये मुझे।


अन्तहीन तो मैं तभी हो गया था।
जब तुम्हारे एहसासों की अन्तहीन सुरंग में,
जज़्बातों का एक चिराग़ लेकर,
मैंने क़दम रखा था।


अजनबी तो मैं तभी हो गया था।
जब तुम्हारी और मेरी बातों का सिलसिला,
किसी वक़्त में थम सा गया था।


मैं निःशब्द तो तभी हो गया था।
जब तुम्हारी साँसें,
मेरी आख़िरी साँस में घुट सी गईं थीं।


मैं हालात से तभी दूर हो गया था।
जब तुम्हारे अनसुलझे,
हालात का कुछ अनुभव हो चला था।


मैं उम्मीदों के ज़ंजीर से 
तभी मुक्त हो गया था।
जब तुमने सम्बलहीन,
संवेदनाओं से बाँधा था मुझे।


अपरचित हूँ अपरचित पहले भी था।
तुम्हारे परिचय के बंधन से,
उसकी गाँठ ना जाने कहाँ,
सरक कर चली गई थी।


जल तो मैं तभी गया था
जब तुमने अनमने मन से,
मुझे सांत्वना की चिंगारी दी थी।
जिसमें मैंने स्पर्शहीन प्रेम की,
कितनी बार चितायें जला दी थीं।
जिसकी राख बार-बार,
मेरी हथेलियों में सन जाती है।
और बार-बार मैं उसे,
आँसुओं से धोता चला जाता था,
चला जाता था
चला जाता हूँ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं