अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अपनों से मिलाते हैं होली के रंग

हमारे पूर्वजों सही कहते हैं, वास्तव में होली के रंग मनुष्य के शरीर को नहीं रँगते हैं, बल्कि हमारे शरीर के अंदर में छुपे हुए भेद-भाव, ईर्ष्या और तमाम घृणाओं को भी समाप्त करते हैं।

मेरे भैया आदरणीय श्री जितेन्द्र जी से किसी बात को लेकर काफ़ी समय से मेरा मन मुटाव चला आ रहा था। हम एक दूसरे से बात तक करने को भी राजी नहीं थे। लेकिन आज होली आते ही, मैं उनके घर गया। घर पर भैया और भाभी दोनों ही थे। मैंने उनको होली की शुभकामनाएँ दीं व लाल गुलाल का तिलक लगाकर उनके चरण स्पर्श किए। तो उनके दिल ने उन्हें विवश किया और तुरन्त ही उन्होंने मुझे अपने सीने से लगा लिया। फिर क्या! मैं अपने आँसू रोक ना सका। भैया जितेंद्र ने पूछा कि घर पर सब कैसे हैं? 

मैंने कहा, "जी भैया जी घर पर सब परिवार बढ़िया है। आप के घर पर सब कैसे हैं?"

उन्होंने मेरी तरफ़ देखते हुए कहा, "दोनों के परिवार एक ही हैं। सब ठीक ही है।"

भैया ने मुझसे कहा कि खाना खाए बग़ैर मत जाना। 

भैया हो तो ऐसा हो, आज के दिन ना होली आती, ना में अपने भैया के गले मिल पाता। आख़िर भैया हो तो जितेंद्र जैसा।
वास्तव में अपनों से मिलाते हैं होली के रंग!
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

अविस्मरणीय पड़ोसी – विल्डे
|

लम्बी अवधि से हम किसी से परिचित होकर भी…

उत्तर भारत का जाड़ा
|

यूँ तो यह कविता 2011 में लिखी थी परंतु 2014…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं