अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

असगरी बाई की आवाज़

असगरी बाई की आवाज़
मैं उन्हें अक्सर सुनता रहता हूँ।

 

पुराने टेप और कैसेट से निकलती,
उनकी आवाज़,
जो हर रोज,
सज-धजकर अपनी उम्र को झुठलाती है।

 

खिड़की से छनती धूप में,
अगरबत्ती के धुओं के लच्छों की तरह,
ताजा और ख़ुशबूदार,
उनकी आवाज़ ने,
मेरे लिए बदला है समय।

 

जब मेरे कान से नीचे उतरकर,
भीतर के खोखले में,
नाचते-कूदते हैं ध्रुपद के बोल,
तब बदल जाते हैं,
समय के मायने,
और दिन के रंग।

 

मैंने असगरी बाई को सिर्फ़ इतना ही जाना था,
कि एक आवाज़ है,
एक यंत्र है,
दिन की मशीन को सुधारने,
ले जाने कहीं और,
जैसे उत्सुकता और बदलाव के लिए,
कोई सैर सपाटा,
कोई मनचाही पिकनिक।

 

पर फिर अखबार में पढ़ी एक खबर -
असगरी बाई आजकल बीमार है,
वह रहती है,
टीकमगढ़ में अपनी बेटी की झोंपड़ी में,
गिनते हुए जीवन के अंतिम कुछ साल,
नि:सहाय और अकेली,
उसका बेटा चाट बेचता है,
और बमुश्किल ही अपना घर चला पाता है।

 

अब उसकी चाहत और
प्राथमिकतायें बदल गई हैं,
पहले वह चाहती थी,
कोई ऐसा आदमी,
जो सीखता उसका गुर,
बनाये रखता गायन की उसकी परंपरा,
जैसे आदि शंकराचार्य ने सौंपी थी,
अपनी छड़ी।

 

पर अब उसकी चाहत और
प्राथमिकतायें बदल गई हैं,
ज़िंदगी के आखरी पड़ाव पर,
वह चाहती है एक छत,
एक घर,
छोटा सा एक घर,
क्योंकि उसके बेटे-बेटियों के पास
ऐसा कुछ नहीं है,
जिसे घर कहा जा सके,
उसे अपने लिए नहीं चाहिए यह सब,
उसका जीवन तो पूरा हो गया,
पर वह अपने बेटे बेटियों को
तकलीफ में नहीं देख पा रही है।

 

एक ज़रूरत,
जो समय को बदल देने वाली उसकी आवाज़ से,
ज़्यादा अहम हो गई है।
एक ज़रूरत जिसे अहम बना दिया गया है।

 

उसी क्रम में,
जहाँ निर्लज्जता के साथ,
समय लाद दिया जाता है।

 

और पहली बार मुझे लगा,
मानो किसी ने,
अलग कर दिया हो,
असगरी बाई और असगरी बाई की आवाज़ को,
जैसे उखाड़ा जाता है,
मांस पर से नाखून,
और फिर बेमानी सा लगता है,
बीता हुआ पूरा जीवन,
कि क्यों चिपका था,
नाखून मांस पर,
ज़रूरत क्या थी?

 

इतना सब होते हुए भी,
असगरी बाई की आवाज़,
आज भी धोखा नहीं देती है,
बाजार से उसका कैसेट खरीदते हुए,
मुझे आज भी लगता है,
कि कौड़ियों के मोल मिली है,
मुझे असगरी बाई की यह आवाज़..

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं