अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

औक़ात

हरे बबूल पर छाई अमरबेल ने, जब पास सूखे ठूँठ पर लौकी की बेल को नित हाथों बढते देखा तो, वो अन्दर ही अन्दर उससे ईर्ष्या करने लगी। एक दिन तो उससे रहा नहीं गया और कहने लगी- "अरे, ओ लौकी की बेल! तू मुझे दिखा-दिखा कर, क्या अपने चौड़े-चौड़े पत्तों को हिलाती है, फूलों को खिलाती है और लम्बी-लम्बी लौकी देने लगी है। तुझे पता भी है, तू कितने दिन रहेगी? वर्षा के मौसम के साथ-साथ तेरा भी पता नहीं चलेगा कहाँ गई...? मुझे देख, मैं वर्षा से पहले भी थी, आज भी हूँ, और आगे भी रहूँगी।"

अमरबेल की बात सुन, लौकी की बेल बोली – "बहन, तुम ठीक कहती हो, मेरी उम्र अधिक नहीं है पर मैं ख़ुश हूँ क्योंकि मैं अल्प जीवन में भी इस सूखे पेड़ को हरेपन का अहसास करा कर, उसे साहचर्य का सुख देकर अपने को धन्य जो मानती हूँ। अगर हम थोड़े जीवन में भी किसी को सुख व ख़ुशी दे जाएँ तो वो अल्प जीवन भी बहुत बड़ा लगने लगता है। एक तुम हो, अमरबेल! वास्तव में तुम्हारी उम्र मुझसे बहुत है पर, तुम्हारा जीवन, दूसरों पर आश्रित जीवन है तुम हमेशा दूसरों का शोषण कर अधिक जीवित रहती हो, तुम्हें जो भी पेड़ अपने सिर पर बैठा कर , तुम्हें मान देता है, जान देता है, तुम अपने जीवन को बचाने के प्रयास में उसी को पल-पल नष्ट करने पर तुली रहतीं हो। और एक दिन तुम उस हरे-भरे पेड़ को सूखा ठूँठ बना देती हो। फिर मेरे जैसी कोई बेल उसे पुनः जीवन तो नहीं दे पाती पर कुछ दिनों के लिए ही सही ,उसे हरेपन का अहसास तो करा ही देती है।

लौकी की बेल की बात सुनकर, अमरबेल निरुत्तर हो गई, उसे अपनी 'औकात' का पता चल चुका था ...

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

गीत-नवगीत

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं