अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अय शहीद, तुझे सलाम

अय शहीद तुझे सलाम
अय शहीद तुझे सलाम
तेरी क़ुर्बानी को सजदा
तेरी निष्ठा को प्रणाम
                 अय शहीद तुझे सलाम
 
लक्ष्य आज़ादी का लेकर
तुम जगत में आये थे
स्वतंत्रता के दीप उस पल
घर घर में जगमगाये थे
तुम न आते जाने कब तक
मेरा देश रहता ग़ुलाम
                 अय शहीद तुझे सलाम
 
राष्ट्र प्रेम का गीत तूने
क्रान्ति की धुन पे गाया था
देख सामने मौत आती
किंचित न डगमगाया था
जीकर जो कोई कर न पाया
मर कर किया वो काम
                 अय शहीद तुझे सलाम
 
जीवन भले छोटा सा था
कार्य तेरे थे अति बड़े
देख तेरा तेजस्वी चेहरा
फ़िरंगी रह जाते थे खड़े
दासता की ज़ंजीर तोड़ी
पीकर शहीदी जाम
               अय शहीद तुझे सलाम
 
राष्ट्रभक्ति की चिंगारी से
मशाल तूने जो जलाई
उसकी रोशन राहों पे चल
आज़ादी की देवी घर में आई
क़तरा क़तरा तेरे लहू का
आया वतन के काम
               अय शहीद तुझे सलाम
 
तेरी शहीदी का परन्तु
मूल्य किसने है चुकाया
अधर्म और आंतक ने मिल
आज तुझको है भुलाया
तुम शहीदों का इन्होंने
नाम किया बदनाम
              अय शहीद तुझे सलाम
 
हे युगपुरुष हे युगप्रवर्त्तक
फिर से है तेरी ज़रूरत
देश मेरा फिर से चाहे
वैसा ही प्रेम वैसी मुहब्बत
क्या ही अच्छा हो जो गूँजे
हर सू तेरा पैग़ाम
            अय शहीद तुझे सलाम
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

कविता - हाइकु

ग़ज़ल

गीत-नवगीत

अनूदित कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं