अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बापू (डॉ. सुशील कुमार शर्मा)

आँख पे चश्मा हाथ में लाठी
बापू तुम कितने हो सच्चे।
सदा तुम्हारे आदर्शों पर
चलते हैं हम भारत के बच्चे।

 

करम चंद के घर तुम जन्मे
दो अक्टूबर दिवस पवित्र।
पुतली बाई की कोख से जन्मा
ये भारत का विश्वमित्र।

 

तन पर एक लंगोटी पहने
सत्य अहिंसा मार्ग बताया।
अपने हक़ की लड़ो लड़ाई
निडर बनो ये पाठ पढ़ाया।

 

अत्याचार के प्रतिकार में
नहीं तुम्हारा सानी है।
तेरे संकल्पों के आगे
नहीं चली मनमानी है।

 

दक्षिण अफ्रीका के समाज पर
रंगभेद का साया था।
रंगभेद के इस दानव को
तुमने मार भगाया था।

 

अँग्रेज़ों का कालकूट था
जलियांवाला नरसंहार।
गाँधी का असहयोग आंदोलन
बना ज़ुल्म का फिर प्रतिकार।

 

अँग्रेज़ी चीज़ों का मिलकर
किया सभी ने बहिष्कार।
खादी और स्वदेशी नारे
बने स्वतंत्रता के हथियार।

 

स्वराज और नमक सत्याग्रह
गाँधी के हथियार थे।
अंग्रेजी शासन के ऊपर
ये हिंदुस्तानी वार थे।

 

दो टुकड़े भारत के देखो
सबके मन को अखरे थे।
हुआ स्वतंत्र राष्ट्र पर आख़िर
गाँधी सपने बिखरे थे।

 

तभी एक गोली ने आकार
संत हृदय को छेद दिया
कोटि कोटि जन के सपनों को
पल भर में ही भेद दिया।

 

जाति धर्म की दीवारों को
गाँधी ने तोड़ गिराया था।
त्याग, सत्य का मार्ग बता कर
ज्ञान का दीप जलाया था।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

ऐसा जीवन आया था
|

घूमते हो जो तुम इन  रंग बिरंगे बाज़ारों…

ऐसा देश है मेरा
|

चाणक्य के तक़दीर में था राजयोग फिर भी माँ…

करो सलाम
|

उस सैनिक को  करो सलाम  जिससे देश…

कहाँ गए
|

पता नहीं वे मित्र हमारे, कहाँ गए सारे के…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख

लघुकथा

व्यक्ति चित्र

गीत-नवगीत

दोहे

कविता

साहित्यिक आलेख

सिनेमा और साहित्य

कहानी

बाल साहित्य कविता

कविता-मुक्तक

किशोर साहित्य नाटक

किशोर साहित्य कविता

ग़ज़ल

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं