अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बारिश के कुछ रंग 

नाचते हुए मोर
झूमते चहकते चकोर।
घुमड़ते काले बादल
चमकती गरजती बिजली।
मेंढक की टर्र टर्र
मौसम ख़राब होने की ख़बर।

 

बरसता हुआ सावन 
प्यासा तरसता मन।
बारिश में भीगना
पुरानी यादों को सींचना।

 

बूँदों की टिप टिप
वोह चाय का सिप,
आलू प्याज़ के पकौड़े
मन कैसे इन्हें छोड़े।

 

कागज़ की नाव 
ठहरा हुआ पानी,
फिसलते रपटते बच्चे
न सूखते सीले कपडे।
काले और रंगबिरंगे छाते 
रेनकोट, बरसाती और जूते।

 

सड़क के गड्डे
वही पुराने क़िस्से।
न ख़तम होने वाला ट्रैफ़िक जाम
सड़क पर गुज़रती शाम।
देर से घर पहुँचना
भीग जाना और छींकना।

 

क़हर ढाती 
उफनती हुई नदी
बाढ़ का डर 
सैंकड़ों उजड़े घर।
बेघर हुए लोग
बीमारी और फैलते रोग।

 

नीला-नीला आसमान
धुला घर आँगन।
हरी हरी पत्तियाँ  
नयी आशा उम्मीद जगाती।
सोंधी मिट्टी की महक
जीवन में घोलती चहक।

 

बारिश के अनगिनत रंग 
मदमस्त, चंचल और मलंग
मौसम का यह क्रम
सब कुछ स्थायी है, तोड़ता यह भ्रम

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं