अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बच्चों की पाती

आओ बच्चों जल्दी आओ,

अपनी पाती लेकर जाओ।

पढ़कर इसको रखना याद,

पूरे होंगे सारे ख्वाब।

 

प्रातः जल्दी उठकर तुम,

सभी बड़ों को करो नमन।

और प्रभु का लेकर नाम,

करो शुरू तुम सारे काम।

 

सभी बड़ों का आदर करना,

छोटों से भी न तुम लड़ना।

अगर करोगे अच्छे काम,

जग में होगा सबका नाम।

 

मात-पिता की आज्ञा मानो,

भले-बुरे को तुम पहचानो।

फैलाओ ऐसा उजियारा,

मिट जाये जग का अँधियारा।

 

बड़ी लगन से पढ़ना तुम,

मेहनत से न डरना तुम।

पाओगे ऊँचा स्थान

बन जायेगें बिगड़े काम।

 

झूठ की राह कभी न चलना,

सच के पथ पर आगे बढ़ना।

झूठ का होता है अपमान,

सच को मिलता है सम्मान।

 

जीवों पर भी दया करो,

कभी न उनका बुरा करो।

वो भी देंगे तुमको प्यार

प्रेममय होगा संसार।

 

गर तुम पे हो रोटी कम,

करो नहीं कोई भी गम।

साथ बाँटकर इसको खाओ,

जग में सबसे प्यार बढ़ाओ।

 

वाणी में तुम अमृत घोलो,

कभी किसी से बुरा न बोलो।

बन जायेंगे संगी साथी,

पूरी हो गयी अपनी पाती।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

6 बाल गीत
|

१ गुड़िया रानी, गुड़िया रानी,  तू क्यों…

 चन्दा मामा
|

सुन्दर सा है चन्दा मामा। सब बच्चों का प्यारा…

 हिमपात
|

ऊँचे पर्वत पर हम आए। मन में हैं ख़ुशियाँ…

अंगद जैसा
|

अ आ इ ई पर कविता अ अनार का बोला था। आम पेड़…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल

बाल साहित्य कविता

पुस्तक चर्चा

कविता

गीतिका

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं