अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बचपन की यादें

यादों में जो अक्सर आती
ऐसी ही एक कहानी है।
इसमें न कोई राजा है
इसमें न कोई रानी है
राख लगी है रोटी में
कोरे मटके का पानी है।


सिल-बट्टे की चटनी है
ईख का गुड़ भी है थोड़ा
खेल-खिलौनों में माटी के
गाय बैल हाथी घोड़ा
नानी दादी के क़िस्सों ने
मन को सबसे रक्खा जोड़ा
दिल में अब इनकी याद है बस
आँखों में खारा पानी है।


एक थान के कपड़े से
सब शर्टें बनवाया करते
जब अगल-बगल में शादी हो
बर्तन आया जाया करते
मिठया चाचा बैठे पीढ़े पर
लड्डू बनवाया करते
बातों ही बातों में देखो
आया फिर मुँह में पानी है


दशहरे से दीवाली तक
लम्बी छुट्टी हो जाती थी
घर की हर अलमारी आले
में झाड़ू फेरी जाती थी
कच्ची पक्की दीवारें सब
चूने से पोती जातीं थीं
इसमें अम्मां की कड़ी सीख
बच्चों की आनाकानी है।


अब सोचूँ वो प्यारे पल
कितने मोहक थे अच्छे थे
अपनी छोटी सी दुनियाँ के
राजाबेटा हम बच्चे थे
अनगढ़ थे बिना बनावट के
हम सीधे सादे सच्चे थे
यारी में मीठी नोंक-झोंक
झगड़ों में भी नादानी है।


पढ़ लिख कर विद्वान हुए
सो सोच समझ कर जीते हैं
कैलोरी गिन कर खाते हैं
आरओ का पानी पीते हैं
अब बैठ अकेले सोच रहे
क्या खोया क्या पाया हमने

 

काश आज फिर मिल जाए
वो राख लगा टुकड़ा आधा
काश आज फिर दिख जाए
पनघट से घट लाती राधा
काश आज फिर गरिया कर
डपटें हमको बूढ़े दादा
है तो सब सच्चाई लेकिन
लगता है कोई कहानी है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

कविता

नज़्म

किशोर साहित्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

किशोर साहित्य कहानी

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं