अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बहुत याद आती हो!

आँखों के खुलते ही।
भोर में उठते  ही।
तुम से ही रोशनी,
बाहर निकलते ही।
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
अनपढ़ भले ही तुम।
सब कुछ अभी भी तुम।
पास भले आज नहीं,
पास ही खड़ी हो तुम।
पचास का हो गया,
बच्चे सा बहलाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥

मेरे साथ रह लोगी।
सब कुछ सह लोगी।
बनाकर खिलाओगी,
आँखों से बह लोगी।
मेरे दुःख में माँ तुम,
सो नहीं पाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
छोटी सी गुड़िया तू।
नेह की पुड़िया तू।
अभी भी बच्ची है,
समझ में बुढ़िया तू।
बहन तुम छोटी हो,
बिटिया सी थाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
भागता था मन मेरा।
सहारा मिला था तेरा।
तेरी ख़ातिर थम गया,
रुके जहाँ, बना डेरा।
कल की ही बात लगे,
गोद में चढ़ आती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
काम से था भाग रहा।
बिना देखे काज रहा।
प्रेरणा बन थाम लिया,
तुम से था फाग रहा।
दूर हुईं बहुत आज,
नहीं मिल पाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
प्रातः भ्रमण पर जाता हूँ।
तुम्हें साथ नहीं पाता हूँ।
योग की, सुहानी वेला में,
क्यूँ? उदास हो जाता हूँ।
साथ में नहीं हो अब,
चटाई नहीं बिछाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
महसूस मुझे होता है।
मेरा अर्धांग रोता है।
निकट अनुभूति बिना,
रात नहीं सोता है।
ग़ुस्सा बहुत झेला पर,
उठ नहीं पाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
क़लम लिए बैठा हूँ।
तुमसे कुछ ऐंठा हूँ।
बच्ची सा सँभालती हो,
भले ही मैं जेठा हूँ।
जबरन उठाकर मुझे,
टूथब्रुश पकड़ाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
सब कुछ मिलता है।
इच्छा से पकता है।
खा नहीं पाता मैं,
भले ही महकता है।
सामने नहीं हो आज,
तुम नहीं खिलाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
मोबाइल अब हाथ में है।
लेपटॉप भी पास में है।
पढ़ नहीं पाता अब,
लेखन तेरी आस में है।
इंतज़ार करता हूँ,
क़लम नहीं छुड़ाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
आती नहीं पाती है।
शनि साढ़े साती है।
तुम नहीं साथ आज,
राह नहीं बुलाती है।
मनाने को नहीं पास,
ग़ुस्सा नहीं दिखाती हो।
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥
 
माता, बहिन नारी हो।
बेटी, पत्नी प्यारी हो।
कोई भी रिश्ता हो,
नर की दुलारी हो।
नारी बिना नर की कभी,
ज़िंदगी न सुहाती हो।  
 
कोयल ज्यों गाती हो।
बहुत याद आती हो॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनगिन बार पिसा है सूरज
|

काल-चक्र की चक्र-नेमि में अनगिन बार पिसा…

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
|

(रक्षाबंधन पर गीत)   अबके बरस मैं कैसे…

अम्बर के धन चाँद सितारे 
|

अम्बर के धन चाँद सितारे   प्रथम किरण…

अवध में राम आए हैं
|

हर्षित है सारा ही संसार अवध  में  …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं