अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बेचारे विप्र भंगड़ी लाल

बात उन दिनों की है जब मैं अपनी वकालत द्वितीय वर्ष की परीक्षा, लखनऊ विश्वविद्यालय में समाप्त हो जाने पर, अवकाश के समय होस्टल से अपने गाँव कफारा लखीमपुर खीरी गयी हुई थी। तभी यह दिलचस्प वाक़या हमारे गाँव में घटित हुआ। उन दिनों हमारे गाँव में वैशाखी का बहुत विशाल प्रसिद्ध मेला लगा हुआ था। तभी मेले के कारण, एक पंडित जी सुअवसर देखकर हमारे गाँव में प्रति वर्ष की भाँति बैसाखी मेले के समय पुनः पधारे। वह भाँग खाने के बहुत शौक़ीन थे इसलिए लोग उन्हें प्यार से विप्र भंगड़ी लाल कह कर पुकारते थे। 

उस समय गाँव में शिव मंदिर के समीप ही मेला लगा हुआ था। लोग दूर-दूर से वहाँ भोलेनाथ पर सत्तू चढ़ाने आया करते थे। भोलेनाथ का चढ़ा हुआ सत्तू का कुछ भाग पुजारी लोग विप्र भंगड़ी लाल को भी दे देते थे, क्योंकि विप्र जी शाम को बहुत सुंदर-सुंदर लतीफ़े सुना-सुना कर वहाँ के लोगों का मनोरंजन किया करते थे। 

इस बार बैसाखी में सत्तू बहुत चढ़ा था। तो भंगड़ी लाल जी को भी सत्तू बहुत मात्रा में प्राप्त हो गया। उन्होंने मारे ख़ुशी के इस बार और ज़्यादा भाँग पी ली और सो गए। उनके बग़ल ही में सत्तू की मटकी भरी रखी थी और कुत्तों से बचाने के लिए उन्होंने एक डंडा रख रखा था। 

सोते में विप्र बंगड़ी लाल जी ने सपना देखा कि वह सत्तू बेचकर बकरी लाए हैं और उन बकरियों को बेचकर मुनाफ़े से फिर गाय, भैंस ख़रीदी हैं, फिर इसी मुनाफ़े के क्रम में उन्होंन काफ़ी खेत ख़रीदे, घर बनवाये और काफ़ी तरक़्की की है। आलीशान घर और ख़ूबसूरत घरवाली भी सपने में ही हासिल हो गयी, साथ ही काफ़ी ज़मीन-जायदद भी बना ली। सपने में ही सुंदर घुँघराले बालों वाला बेटा भी खेलने लगा, जो खिलौनों के खो जाने से मचल कर रोता है। लेकिन भंगड़ी लाल की काल्पनिक स्वप्निल सुंदरी पत्नी उसके खिलौनों को नहीं ढूँढ़ती, बस अपने सिंगार में लगी है। भंगड़ी लाल को पत्नी पर बहुत ग़ुस्सा आया और वह सपने में ही अपनी पत्नी को पास रखा डंडा उठाकर जो मारते हैं . . . तो वह डंडा वास्तव में कुत्तों से बचाने वाला डंडा सत्तू की मटकी पर पटक देते हैं . . . मटकी फूट गयी और सारा सत्तू मिट्टी में बिखर गया। जिस सत्तू के मुनाफ़े से उन्होंने सुंदर सजीला सपना देख डाला था वह भी उसके टूटने की आवाज़ से टूट कर चूर-चूर हो गया . . .। 

फिर क्या बेचारे भंगड़ी लाल चिल्लाते हैं, "हाय मेरा सत्तू, हाय मेरी बीवी, हाय मेरा बेटा, हाय मेरा आलीशन घर, हाय मेरी बकरी हाय मेरी गाय . . . अब सब कहाँ से पाऊँगा!"

बेचारे भगड़ी लाल ने ये सारा वाक़या मेरे घर आकर सुनाया। कह रहे थे कि काश इतना भाँग ख़ुशी से पगला ना पिए होते। 

हम सबका हँस-हँस कर बुरा हाल था, बेचारे विप्र भंगड़ी लाल! 
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता

दोहे

लघुकथा

कविता-मुक्तक

स्मृति लेख

गीत-नवगीत

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं