अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बेटियाँ

कई बार लोगों को मैंने कहते सुना है
की वो मेरे दिल की धड़कन है,
वो हमारे साँसों में बसती है
हमारी बिटिया हमारे घर को रोशन करती है।
 
अच्छा लगता है ऐसी बातें सुनना
अच्छा लगता है ऐसे लोगों से मिलना,
वरना यह जहान तो भरा हुआ है ऐसे ग़रीबों से
जिन्हें उम्मीद नहीं कुछ बेटियों से।
 
क्या होता है बगिया में एक फूल का खिलना
जिससे पूरी बगिया हरी हो जाए?
क्या होता इंद्रधनुष में एक रंग का निखरना
जिस ने पूरा इंद्रधनुष खिल जाए?
 
जाना है जीवन के इस राज़ को मैंने
उसके मेरे जीवन में आने के बाद,
जिया है हर पल दिवाली की तरह मैंने
उसको जीवन में पाने के बाद।
 
ऐसा नहीं कि उसके आने से पहले
जीवन में कोई भार नहीं था,
जीवन पथ की अनेक यात्राओं से
पाँव मेरा थका नहीं था।
 
पर अब सब बदल गया था।
 
जीवन अब जब जब मुझे सताता था
उसको देखते ही मैं उठ जाता था,
बढ़ जाता था एक नयी ऊर्जा ले कर
भिड़ जाता था जीत की उमंग भर कर।
 
पर समयका पहिया भारी है।
 
अब दिखती हैं मुझको
निर्मला और निर्भया की ख़बरें,
जो बतलाती हैं मुझको
उसको बढ़ाने के साथ बचाना भी ज़रूरी है।
 
डर जाता हूँ और सोचने लगता हूँ।
 
काश ऐसा हो जाये
उसको एक नया गगन और दुनिया मिल जाये,
जो ख़ुशियों और उम्मीद से भरी हो
और जहाँ खुल के जीने की आज़ादी हो।
 
और फिर लगने लगता है
बात नहीं है यह सिर्फ़ एक अकेले की।
 
स्थितियों को अगर बदलना है तो
मुझको भी कुछ करना होगा,
उस नये गगन और
नई दुनिया को मुमकिन करना है तो
मुझको भी आगे बढ़ना होगा।
 
आओ चले स्थितियों को बदलें
कुछ ऐसा करें, कुछ ऐसा प्रण लें,
जहाँ  उन सबको मिल जाए वो नया गगन
और फिर हम सब मिल कर गाएँ
 
हमारी बेटियाँ हमारे जग को रोशन करती हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं