अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भाई चारा

भाई चारा का सही अर्थ मेरी समझ में तब आया जब मुझे अभी कुछ दिन पहले किसी कार्यवश उस कसबे में जाना पड़ा जहाँ मैं आज से पचास वर्ष पहले रहता था। दरअसल, वहाँ मुझे अपने एक ऐसे मित्र के यहाँ ठहरना पड़ा जिससे मेरी मित्रता उस वक़्त से है जब हम अपनी स्कूली शिक्षा ले रहे थे। ख़ैर, कार्य पूरा होने में लगभग एक सप्ताह का समय लगा। मेरी मित्र के तीन भाई हैं; एक बड़ा और दो छोटे। ख़ैर, उनका सबसे बड़ा भाई एक शातिर किस्म का इंसान है और विरासत में मिली ज़मीन-जायदाद को लेकर जब-तब विवाद करता रहता है। दूसरा भाई यानी मेरा मित्र एक कुशल व्यापारी होने के साथ-साथ सामाजिक कार्यों में रचि रखने वाला साहित्यिक प्रवृति का नेक इंसान है। तीसरा भाई पारिवारिक कूटनीति की काफी समझ रखता है लेकिन आर्थिक रूप से कमज़ोर है। चौथा भाई एक प्राइमरी स्कूल में अध्यापक है और एक सीधा-सादा इंसान है। सबसे बड़ा भाई दूसरे भाई की प्रगति से ईर्ष्या करता है। इतना ही नहीं, छोटी-छोटी बातों को लेकर गाली-गलौज करने लगता है। तीसरा भाई इस सबसे बड़े भाई का इस्तेमाल अपने व्यापारी भाई पर दबाव बनाने के लिए करता है। वह जब-तब अपने व्यापारी भाई से मदद लेता रहता है। जब कभी इस मदद में कमी होती है, वह सबसे बड़े भाई के साथ अधिक दिखने लगता है। कुल मिलाकर, व्यापारी भाई को अपने इस भाई को साथ रखने के लिए उसे जब-तब धन रूपी चारा देना पड़ता है। इतना ही नहीं, बाबा भैरों में आस्था रखने वाले बड़े भाई को भी उसे यदाकदा "दारू" का भोग लगाना पड़ता है।

बहरहाल, मुझे इस बात की ख़ुशी है कि उस एक सप्ताह के प्रवास ने मुझे "भाई चारा" का सही अर्थ समझा दिया। "भाई चारा" बना रहे, इसके लिए आज के ज़माने में गैरों को नहीं, अपने सगे भाइयों को भी चारा देना पड़ता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं