अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भूख और जज़्बा

किसी ने जब पूछा मुझसे
तुम्हारी ये मिट्टी की दीवार कैसे गिरी?
मैंने कहा भूख लगी थी साहब!
यह मिट्टी खाकर मेरा परिवार ज़िंदा है।


पेट भरता ही नहीं साहब!
अब खाना खाने से
इससे ज़्यादा तो हम गालियाँ खा लेते हैं।


बातों का हिसाब कौन रखता है साहब!
यहाँ यूँ ही किसी की
हुकूमतें नहीं बदलतीं।


जलसे तो रोज़ होते हैं साहब!
इस शहर की गलियों में
काश कभी भूख पर
तक़रीरें हो जातीं तो अच्छा होता।


मेरी आँखों पर मत जाइए साहब!
यहाँ आँसुओं पर भी
कई मतलब निकाले जाते हैं।


यहाँ सब कुछ बिक जाता है साहब!
इंसान और इंसानियत भी
तो इस बाज़ार में
हम ग़रीब, हमारी भूख बहुत सस्ते सौदे हैं साहब!


कुछ आवाज़ें न सुनाई दें
तो ही ठीक है साहब!
वरना भूख की आवाज़ों से देश की ख़ूबसूरती
बदसूरत हो जाती साहब!


यही तो जज़्बात हैं अपने
एक ग़रीब के अपने देश के लिए
वरना हम भी कब के
मुकम्मल मौत मर गये होते साहब!
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं