अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भूमि-पूजन

आज मशहूर बसेरा बिल्डर्स के नये अपार्टमेंट के भूमि-पूजन समारोह में शहर के नामी-गिरामी लोगों का हुजूम सुंदर-सुवासित परिधानों में जुटा हुआ था। जिस ज़मीन पर इस अपार्टमेंट की नींव रखी जाने वाली थी, वह कई एकड़ लंबी-चौड़ी लीची बागान की ज़मीन थी जहाँ से हज़ारों पेड़ों को काटकर हटा दिया गया था। अब वह वृक्षरहित धरती निर्माण के प्रथम चरण के रूप में पसरी दिखाई दे रही थी। निर्माण-स्थल के सामने एक और लीची बागान था, जो अभी ज्यों का त्यों हरा-भरा था।

इस समारोह में रमेश भी आमंत्रित था। जैसे ही पूजा प्रारंभ हुई, सामने वाले बगीचे से चिड़ियों का शोर सुनाई देने लगा जो मंत्रध्वनि के साथ स्वर मिलाता प्रतीत हो रहा था। सभी का ध्यान उधर आकर्षित हो गया और वहाँ उपस्थित स्त्रियाँ एक-दूसरे को ख़ुश होकर देखने लगीं। उनमें से एक बोल उठी - "देखो, ये पंछी आशीर्वाद दे रहे हैं।"

दूसरी ने कहा- "हाँ, ऐसा ही लगता है।"

पर रमेश ने सोचा क्या सचमुच ऐसा ही है? पंछियों का शोर उसके कानों से होकर दिल में उतर गया और किसी कीड़े की तरह कुरेदने लगा। पूजा में वह अनमना बैठा रहा और निर्माण-स्थल की सूनी भूमि को देखता रहा। सोचता रहा कि यहाँ के जो पेड़ कटे, उन पर नीड़ बनाकर रहने वाले पंछी कहाँ गये होंगे?

उनके अंडों-बच्चों का क्या हुआ होगा? वह चुपचाप उठकर चल दिया। वह शोर हमेशा के लिए उसके अंतर में बस गया था।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

चिन्तन

लघुकथा

गीत-नवगीत

कहानी

कविता

साहित्यिक आलेख

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं