अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

भूल सुधार के लिये

आज वह बड़े सुकून में थी। पिंजरे के आज़ाद पंछी की तरह उसका मन जैसे नीले आसमान मे उड़ जाना चाहता था। उफ़ पिंजरा! वह भी पुरुष का जिसमें स्त्री पर भी नहीं फड़फडा सकती, अपनी मर्जी से साँस लेना भी दूभर। उस पिंजरे का दरवाज़ा एक ही झटके में तोड़कर भाग आई थी। दूसरा मकान पहिले से तय था नौकरी भी सुनिश्चित थी। धीरे-धीरे उसने यह सब तब ही कर लिया था जब वह श्याम के घर में थी।

दिन बीते, महीने बीते पर कुछ ही साल बीते कि उसे पिंजरा याद आने लगा। वहाँ कैद तो थी मगर मैना को तोते का प्यार भी तो मिल रहा था।

सामने से एक गुज़रे ज़माने की बैलगाड़ी निकल रही थी। उसे याद आ गई उस पुस्तक की जिसमें कहीं लिखा था की स्त्री पुरुष गाड़ी के दो पहियों की तरह हैं, ठीक से चले तो जीवन नैया पार हो जाती है। कहीं एक चक्के से भी गाड़ी चलती है? अगर दो में से एक पहिया छोटा बड़ा हो तो भी गाड़ी चलती ही है भले घिसट कर चले।

सामने के घर में रहने वाले बच्चों क़ी खिलखिलाहट सुनाई पड़ने लगी उनके मम्मी पापा की नोंक-झोंक सुनाई देने लगी। क्या नोंक झोंक ही जीवन है?

लड़ना झगड़ना फिर प्यार! ये कैसा संतुलन है, ईश्वर का विधान कैसा अदभुत है। एक सिक्के के दो पहलू, दिन रात, सुख-दुःख, खट्टा-मीठा, भगवान ने जानबूझ के ये उपहार दिए हैं। उसे चाची की बातें याद आ गईं 'बिन नारी घर भूत का डेरा '। माँ की सीख भी कान के पर्दे फाड़ने लगी, बिना पति के औरत कैसी, बिन पानी के मछली जैसी। प्रकृति के बिना पुरुष और पुरुष के बिना प्रकृति क्या अधूरे हैं? ये दोनों मिलकर ही तो संसार कि रचना करते हैं। नन्हें-नन्हें बच्चे गुलशन में खिले ताज़े फूल मिलन का ही तो परिणाम हैं। उसे याद आ गई काम वाली बाई। कैसा टके सा जबाब दिया था ’वह पूछ रही थी जब तेरा मर्द रोज़ तुझे मारता हैं तो छोड़ क्यों नहीं देती उसे।’

"मारता तो क्या हुआ प्यार भी तो करता है।"

उसने अपना सामान उठाया और, और मीरा चल दी अपने श्याम के पास अपनी भूल सुधार के लिए।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कहानी

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य नाटक

बाल साहित्य कहानी

कविता

लघुकथा

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं