अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बिजली चमकने का रहस्य?

ख़ुदा जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है और जब लेता है तो वह भी अपने तरीके और मर्ज़ी से! मनुष्य चाहे जितनी भी योजनायें बना ले या सपने सजा ले, होता वही है जो मंजूरे ख़ुदा होता है।

गाँव का एक किसान पिछले कई महीनों से मेहनत कर रहा था। सुबह शाम अपनी एक करके उसने अपनी ज़मीन को नई फसलों के लिए तैयार किया। सही वक़्त पर उसमें बीज और खाद डाली और उसे पानी से सींचा।

धीरे-धीरे उसे अपनी मेहनत का फल नज़र आने लगा था। बीज के अंकुर जब फूटे तो नन्हें-नन्हें पौधे ज़मीन से निकल आये और उसके देखते-ही देखते खेतो में ख़ुशहाली से लहलहाने लगे। चारों और हरियाली ही हरियाली और किसान के मन में एक उम्मीद की लहर फैल गई।

किसान जब भी अपनी लहलहाती फसलों को देखता तो फूला न समाता था। उसकी ख़ुशी उसकी आँखों में चमकती स्पष्ट दिखाई देती थी, न जाने कितने ही सपने वह अपने मन में सँजोता और फिर एक दिन उन्हे साकार करने वाले दिन की कल्पना में खो जाता। आने वाले दिनों में न जाने कितने सपने उसने अपने मन में सँजो लिए थे।

एक दिन शाम के वक़्त अपने खेतों से जब वह घर लौटा तो खाना खाने के समय अपनी पत्नी से उसने अपना एक सपना सांझा किया, "भागवान, इस बार म्हारी जो फसल होवेगी वह कमाल की होगी...पिछले कई सालां से जो नए घर बनाने की हमारी तमन्ना रही है वह भी इस साल पूरी हो जावेगी। घर ऐसा बनाऊँगा कि सब अपनी आँखें फाड़ कर देखते के देखते रह जाएँगे और बेटी की शादी भी इसी साल ऐसी करेंगे कि जैसे किसी शहज़ादी की शादी होती है...!"

"तुम्हारे मुँह में घी शक्कर!" कहते हुये किसान की पत्नी भी फूली नहीं समाई।

धीरे-धीरे अब वह समय नज़दीक आता जा रहा था जब मक्की की फसल पक कर तैयार होने को आई था। किसान अब चौबीसों घंटे अपनी फसल को लोगों और जानवरों आदि से बचाने में लग गया था। दिन के बाद रातों में भी वह अपने खेतों पर ही रहने लगा था। किसान की पत्नी सुबह शाम खेत पर ही स्वयं जाकर उसे उसका खाना दे आती थी।

कितने ख़ुश थे दोनों अपनी लहलहाती मकई की फसल को देख कर।

"बस, दो दिन की और बात है, भागवान! सोमवार से फसल की कटाई शुरू और फिर देखना, फसल बेचकर जो पैसे इस बार मिलेंगे उससे हमारी किस्मत बदल जायेगी, हमारे सब सपने साकार होंगे.!" कहते-कहते किसान ने अपनी असीम ख़ुशी का एक बार फिर इज़हार किया।

कल सुबह फसल काटने का दिन था। किसान की पत्नी हर रोज़ की तरह अपने पति के लिये रात का भोजन देने के लिये गई तो मौसम ख़राब होने की व्ज़ह से घर लौट नहीं पाई। देखते ही देखते आसमान पर काली घटाएँ छा गईं, मूसलाधार बारिश होने लगी। सहसा, एक सामान्य शाम घनघोर काली और डरावनी रात्रि मे बदल गई थी।

बारिश थी कि रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी और न ही उसके रुकने के कोई आसार ही नज़र आ रहे थे। सहमी सी, चिंताजनक हालत में किसान की पत्नी उसकी बगल में, ऊपर मचान पर पड़ी थी।

सहसा, सिर पर एक ज़ोर की गडगड़ाहट हुई जैसे कोई पानी का बादल फटा हो। तेज़ बारिश के साथ अँधेरी और झखड़ का आलम हो गया। किसान ने उठकर, दूर तक अपने खेतों पर अपनी एक सरसरी नज़र दौड़ाई। अपने इर्द-गिर्द तबाही का दृश्य देखकर वह अपना सिर पकड़ कर बैठ गया।

...और फिर बादल गरजने के बाद बिजली को चमकता देखकर किसान की पत्नी अनायास अपने पति से पूछ ही बैठी - "बादलों की यह गर्जन तो समझ में आ रही है लेकिन यह बिजली क्यों चमक रही है?"

जवाब में किसान फूट पड़ा, "भागवान, ईश्वर अपनी 'फ्लैश लाईट' जलाकर देख रहा है कि मुझ गरीब का कोई पौधा पानी में डूबने से तो नहीं रह गया।"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कहानी

हास्य-व्यंग्य कविता

पुस्तक समीक्षा

सांस्कृतिक कथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं