अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बुद्धिमान कौआ

(राष्ट्रकवि सोहनलाल द्विवेदी जी को सादर समर्पित )
 
एक बार की बात बताऊँ,
एक कहानी तुम्हें सुनाऊँ,
ध्यान से बच्चों सुनो कहानी,
अच्छे से मन में गुनो कहानी॥
  
काक एक था बड़ा ही प्यासा,
लिए हुए वह जल की आशा,
इधर उधर उड़ ढूँढ़ रहा था जल 
काँव -काँव कर प्यासा-प्यासा॥
 
काफ़ी खोज-बीन पश्चात्,
सफल हुआ उसका प्रयास॥
दिया उसे घट एक दिखाई।
जान में उसकी जान सी आयी॥
 
घट का मुख था पतला सा,
और तली में था पानी।
काक ने कैसे पिया था पानी।
अब आगे की सुनो कहानी॥
 
तीव्र तृषा थी, सही न जाय,
तुरंत सोचने लगा उपाय।
पास पड़े थे कंकड़ पत्थर,
दबा चोंच में उन्हें उठाकर॥
 
लगा उठाने एक पर एक,
घट में डाले पत्थर अनेक,
तब जाकर जल ऊपर आया,
कौवे ने अपनी प्यास बुझाया॥
 
छककर प्यास बुझाकर तन की,
फिर सैर पे निकला नील गगन की।
केवल कथारस को ही न दीख,
बच्चों, इसमें छिपी हुई है सीख॥
 
धारण करो संघर्ष - व्यवहार,
मन से कभी न मानो हार।
करते रहो वार पर वार,
चाहे मुश्किल का हो पारावार॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

6 बाल गीत
|

१ गुड़िया रानी, गुड़िया रानी,  तू क्यों…

 चन्दा मामा
|

सुन्दर सा है चन्दा मामा। सब बच्चों का प्यारा…

 हिमपात
|

ऊँचे पर्वत पर हम आए। मन में हैं ख़ुशियाँ…

अंगद जैसा
|

अ आ इ ई पर कविता अ अनार का बोला था। आम पेड़…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कविता

कविता

कविता - हाइकु

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं