अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चैतन्य महाप्रभु और विष्णुप्रिया

रात्रि रास की बेला में 
स्वामी आ बैठे मेरे पास
और श्री कृष्ण के विग्रह की 
तुलसीदल माल
दे दी मुझे उपहार
प्रसाद खिलाने वाले ही थे कि
मैंने परिहास में कमल पुष्प से 
उनकी पीठ पर प्रेम से ताड़न किया
“मछली की रसिक हूँ निमाई,
मत लाया करो माखन मिश्री का प्रसाद”
आनंदातिरेक से दमक रहा था मेरा मुख
लेकिन उस रात
उनके नेत्र स्थिर थे कहीं दूरस्थ
 
उन दिनों
अनंग के पुष्प-बाणों की वृष्टि
हम दोनों पर होती
और मैं महाप्रभु के गौरवर्ण को 
तृषित नेत्रों से हृदयस्थ करती
उनके जवांकुसुम तेल से महकते 
केशों को काढ़ती रहती
 
उस रात
एकाएक उनके श्रीमुख से शब्द निकले
"मेरे से अब पृथक रहना होगा विष्णुप्रिये, 
के अब दंड, कमंडलु, मृदंग
झांझ और मंजीरे ही मेरे सहचर"
महाप्रभु के इस प्रचंड कथन ने 
प्रेमबंधन पर कर दिया
तीक्ष्ण कुठाराघात
अपनी प्रतिष्ठा में मेरा रुदन
देखते रहे वो वह बन के शांत
 
आम्र पर बैठे शुक और सारिकाएँ 
प्रेम गीत गाते गाते
अकस्मात मौन हो गए
और नवद्वीप में रुदन, हाहाकार
अन्ततः मुझे सदैव स्मृति में
रखने का वचन देकर 
वो हो गए रात में अंतर्ध्यान
पीछे छोड़ गए चंदन पादुका और शालिग्राम 
 
मन में सदैव एक भ्रांति बनी रही कि
अपने सुकुमार हाथों से वो 
सदैव करेंगे प्रेम यज्ञ का अनुष्ठान
और जीवन के विलक्षण वर्णनों में 
यह वृतांत होगा प्रख्यात
किंतु, उनका "चैतन्य" हो जाना 
मुझे "शून्य" कर गया
 
आज मरघट में, 
अपने निमाई को दृष्टिभर देख लेने की 
अपूर्ण और पराजित अभिलाषा
चटचट जल रही है कपाल के संग
 
यह सदियों की प्रतीक्षा है
भस्म होने में समय लगेगा
प्रेमी का ईश्वर हो जाना 
स्त्री को कितना उपेक्षित कर जाता है

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

दोहे

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं