अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चालू नम्बर वन

मुँह में पान का बीड़ा दबाए हुए
साड़ी का पल्लू चेहरे पर गिराए हुए
कामदेवता से उधार लिए बाण को
छोड़ते ही
राबड़ी जी ने मलाई भरे वाग्बाण छोड़ डाले


"अब तनिक देस की रेलगाड़ी की
चिंता छोड़ो,
घर की रेलगाड़ी की भी फिक्र करो,
डिब्बे ताबड़तोड़ उम्र की पटरी पर
भागे जा रहे हैं,
और आप स्टेस्नवा पर तिरंगी झंडी
लहराए जा रहे हैं।"


’किंग मैकर’ लालू जी ने
मुग़ले-आज़म के अन्दाज से नज़रें घुमाईं--
माथे पर लटकती सफेद जुल्फ़ों को
अंगुलियों से सँवारा,
कुर्ते की बाँह में छिपा हाथ यूँ निकाला
और धर दिया राबड़ी के हाथों पर,


"हम सच कहता है तुम गुस्से में भी
’सीरी देवी’ लगती हो।"


"हं..." राबड़ी ने ये लिया माधुरी का झटका
और धम्म से जा बैठी सी.एम. की कुर्सी पर,


"पूरे देस के रेल मंत्री का पदवा मिल गया,
तो अकड़ रहे हैं--
अरे! हमरा बिहार देस की गाड़ी चलने देगा
तब न।
इंजन का कोयला तो हम ही देंगे न!"


लालू ने पैंतरा बदला
घुटनों के बल, राबड़ी के घुटनों पर रख सर
’शारुख’ को याद कर बोले..


"क..क..क. क्यों बिगड़ती हो,
तम्हारे बिटवा के लिए
हम अंबानी की बेटी बहू बनाकर ला रहा हूँ
और तुम हो.."


सुनकर राबड़ी तो देसी घी की तरह पिघल गई,
लालू की सफेद जुल्फ़ों को शरारत से बिखेरा
और रानी मुखर्जी की तरह सिमट गई,


"ह..ह..ए.. क्या बोलता तू?"

 

लालू और राबड़ी जी की इस रोमांटिक दुर्घटना के बाद
लालू जी पहुँचे सीधे अंबानी के पास...

अमिताभ सा रुआब, पंजों पर दबाव डाले,
लंबे होते हुए बोले--


"हम आपकी बेटी के लिए हसबैंड लाया हूँ।"


अंबानी को लगा जैसे रेढ़ेवाला कह रहा हो,


"बीबी जी के लिए ताजी सब्जी लाया हूँ।"


माथे को झटकाकर, गर्दन को घुमाकर
कंधों को उचकाकर, अशोक कुमार को जिलाकर
बोले -

"वो तो ठीक है, पर लालू जी मेरी बेटी अभी छोटी है।"


"अइला!" लालू मुन्नाभाई उछले,


"भेजा सरक गया है क्या?
ऐ ज्यादा शाण पट्‌टी मत कर,
अपुन वर्ल्ड बैंक के वाइस प्रेसिडेन्ट का
रिश्ता लाया है।"

 

अंबानी को लगा करंट अपनी जेबें लगी और भारी,
इस चक्कर मे हो गई ’मरेली’ आवाज़ भी भारी--
बोले--

"मोकेंबो खुश हुआ!!"

 

लालूजी ने पकड़ी पहली फ्‍लाइट,
वर्ल्ड बैंक पहुँचते ही
लिया अक्षय कुमार के कराटे का सहारा,
अँग्रेज़ी की टाँगें तोड़ तोड़ कर
दे पटक पटक के मारा,


"यू प्रेसिडेन्ट, आइ लालू द ट्रेन मिनिस्टर,

एनी वाईज़ प्रेसिडेन्ट चेयर एम्पटी?"


वर्ल्ड बैंक का प्रेसिडेन्ट, विश्व बंधुत्त्व की
भावना से ओत प्रोत हो बिहारी में बोले,


"अफसोवा, कुर्सीवा, भरीवा।"


लालू ने दिखाया सन्नी डियोल का हाथ,
"यू से नो टू अंबानी’ज़ सन-इन-ला?"


अंबानी का सुना नाम,

प्रेसिडेन्ट की हुई नीची नाक,
और अब लालू का बेटा

बना वर्ल्ड बैंक का वाइस प्रेसिडेन्ट,
अंबानी के घर लग गया है शादी का टैंट
राबड़ी ने ऐश्वर्या की तरह लालू के गले में
बाहें डालीं
और कहा --
"जब तक रहेगा समोसे में आलू
चालू नम्बर वन रहेगा मेरा लालू!!"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं