अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चतुर राज ज्योतिषी

महाराजा करमवीर सिंह के दरबार में राज ज्योतिषी पण्डित श्याम मुरारी की बहुत चर्चा थी और बड़ा मान था। राजा कोई भी काम ज्योतिषी की सलाह के बिना नहीं करता था। समय बीतता गया और राजा को अपनी सीमाओं को बढ़ाने की इच्छा दिन प्रति दिन प्रबल होती चली गई।

एक दिन राजा ने ज्योतिषी को बुलाकर अपने दिल की बात कही और पूछा कि क्या साथ वाले राजा पर आक्रमण करना ठीक रहेगा और यदि ठीक है तो उसका राज्य हड़प करने का कौन सा शुभ समय है। 

यह जानते हुए भी कि पड़ोसी राजा बहुत बलवान है, श्याम मुरारी ने बिना सोचे समझे सलाह दी कि हे राजन! आप जल्दी से जल्दी आक्रमण कर डालें। आप इस संग्राम में अवश्य सफल होंगे। 

ज्योतिषी के कहने पर करमवीर सिंह ने धावा बोल दिया। हुआ वही जिसका डर था। राजा को मुँह की खानी पड़ी। बहुत पिटाई हुई और जैसे तैसे करके अपनी जान बचा कर भागा। महल में आकर राजा ने सबसे पहले राज ज्योतिषी को बुलाया। ज्योतिषी को तो सब बात का पता चल गया था और उसे ये भी मालूम था कि उसको क्यों बुलाया जा रहा है। फिर भी वो चेहरे पर मुस्कान लेकर दरबार में पहुँचा।

आसन ग्रहण करने के बाद राजा ने ज्योतिषी से पूछा कि महाराज आप सब का भविष्य बताते हैं। क्या आपको अपना भविष्य भी पता है? राजा के प्रश्न के पीछे जो रहस्य था उसे जानने में पण्डित को ज़रा देर नहीं लगी। उसने हाथ जोड़कर विनम्रता से कहा कि महाराज मैं ने सब नक्षत्रों का अध्ययन किया है और मुझे अपने और आपके भविष्य के बारे में सब कुछ पता है। राजा के यह पूछने पर कि आपकी मृत्यु कब होगी, पंडितजी ने बड़ी नम्रता से कहा कि महाराज कुछ ग्रहों का चक्कर ऐसा है कि मेरे और आपके नक्षत्रों का चोली दामन का साथ है। गणित के अनुसार मेरी मृत्यु आपकी मृत्यु से ठीक दो घण्टे पहले होगी। कहने का मतलब ये है कि मेरे मरने के ठीक दो घण्टे बाद आपकी मृत्यु हो जाएगी।

राज ज्योतिषी का जवाब सुनकर राजा भी चक्कर में आ गया और जो उसने मन में सोचा था उस बात को वहीं पी गया। इधर राज ज्योतिषी ने भी सोचा कि एक बार तो जैसे तैसे जान बच गई मगर आगे का कुछ पता नहीं है। कुछ दिन रहने के पश्चात उसने महाराज से आज्ञा ली और वन की ओर प्रस्थान कर दिया।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

17 हाथी
|

सेठ घनश्याम दास बहुत बड़ी हवेली में रहता…

99 का चक्कर
|

सेठ करोड़ी मल पैसे से तो करोड़पति था मगर खरच…

अपना हाथ जगन्नाथ
|

बुलाकी एक बहुत मेहनती किसान था। कड़कती धूप…

अपने अपने करम
|

रोज़ की तरह आज भी स्वामी राम सरूप जी गंगा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

कविता

किशोर साहित्य कहानी

लोक कथा

ललित निबन्ध

आप-बीती

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं