अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चतुराई 

बच्चों की देखभाल करने के लिए सियार और उसकी पत्नी सियारनी को नियुक्त किया गया था। कुछ दिनों के बाद बच्चों के मरने और ग़ायब होने की शिकायतें आने लगीं। शिकायतों की जाँच करने के लिए अधिकारियों का दल भेजा गया
 
सियारनी बहुत घबराईं। 

सियार ने पत्नी सियारनी से कहा, "घबराओ मत। कुछ नहीं होगा। जब कोई जाँच करनेवाला पूछे कि बच्चे किस हालत में हैं? तो ज़ोर से कह देना - जय श्रीराम।"

सियारनी ने प्रश्न किया, "और पूछे कि बच्चे रो क्यों रहे हैं, तब?"

सियार ने कहा, "तो फिर जोर से कह देना - जय श्रीराम।"

सियारनी ने फिर पूछा, "और पूछे कि बच्चे गायब क्यों हो रहे हैं, तब?"

सियार ने फिर वही कहा, "तो और जोर से कह देना - जय श्रीराम।"

सियारनी ने चिंता व्यक्त की, "और पूछे कि बच्चे मर क्यों रहे हैं, तब?"

सियार ने बेझिझक कहा, "प्रिये! तो और भी ज़ोर से कह देना - जय श्रीराम।"

जाँच दल आया। सियारनी से सवाल पूछने का क्रम शुरू हुआ।

सियारनी ने जवाब देना शुरू किया - "जय श्रीराम!"

सियार की तरक़ीब काम आ गई।
जांच करनेवालों को बात तुरंत समझ में आ गई - ’विधाता ने जीवन के जितने पल-छिन और दिन लिखा है उससे राई घटे, न तिल बढ़े।’ जय श्रीराम।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

 छोटा नहीं है कोई
|

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के गणित के प्रोफ़ेसर…

अक़लची बन्दर
|

किसी गाँव में अहमद नाम का एक ग़रीब आदमी रहता…

आतंकी राजा कोरोना
|

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर…

आत्मविश्वास और पश्चाताप
|

आत्मविश्वास और पश्चाताप में युद्ध होने लगा।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सांस्कृतिक कथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं