अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चौराहा

पुरानी दिल्ली का सबसे खूबसूरत बाज़ार चाँदनी चौक है। जहाँ सदा मेला लगा रहता है। सड़क के दोंनों ओर फुटपाथ पर दुकानें सजी हुई हैं। रंगबिरंगे खिलौने। भालू, बंदर, गाय, बत्तख और न जाने कैसे कैसे खिलौने थे जिन्हें देखकर किसका मन न ललचाए। एक दुकान पर कुछ लड़कियाँ चूड़ियाँ खरीद रहीं थी। 10 वर्षीय रीना दूर से खड़ी चूड़ियों की दुकान की ओर देख रही थी। फिर कुछ सोचकर दुकान पर आई और दुकानदार से पूछा‚ “ये हरी-हरी चूड़ियाँ कैसे दीं?”

“24 रुपए दर्जन।”

“2 चूड़ियाँ देना।” दुकानदार ने उसे 2 चूड़ियाँ दीं। वह एक-एक चूड़ी दोनों हाथों में पहनकर बहुत खुश हुई। फिर उसे ध्यान आया कि उसके पास तो पैसे भी नहीं हैं। घर में पैसे नहीं हैं यह बात वह बहुत अच्छी तरह जानती थी। पिता बीमार रहते थे। माँ लोगों के घर बरतन साफ करती थी। जैसे-तैसे घर का खर्च चल रहा था। रीना पिता की देखभाल व घर का चूल्हा-चौका करती। उसने भी कुछ काम करके पैसे कमाने की सोची। फिर वह काम माँगने इधर-उधर जाने लगी। पर सब उसे बच्ची कहकर भगा देते। तभी उसके मन में विचार आया कि वह चौराहे पर जाकर अपने लिए कोई काम देखे। अकसर उसके सोनू भैया वहाँ अखबार बेचते तो राधा गजक बेचती। यह सब देखकर रीना ने सोचा कि वह भी कुछ काम करेगी। कभी-कभी रीना सोचती वह भीख माँगेगी पर लोग क्या कहेंगे। वह यह भी सोचती कि भीख माँगना अच्छी बात नहीं है। चोरी करना भी पाप है। पर नाटक तो किया ही जा सकता है। उसने कुछ सोचकर अपना एक हाथ फ्राक में छिपा लिया और भीख माँगने लगी।

“बाबूजी पैसे दे दो 1 नहीं तो 2 दे दो।” -- ऐसे कभी उसे पैसे मिलते कभी दुत्कार। एक बार रीना चौराहे पर भीख माँग रही थी। लाल बत्ती हुई तो एक तिपहिया आकर रुका। रीना ने उससे पैसे माँगे। तिपहिए में बैठे आदमी ने उससे पूछा, --

“बिटिया तुम भीख क्यों माँग रही हो? तुम्हारी क्या मजबूरी है?”

“मुझे 2 हरी चूड़ियाँ खरीदनी हैं अंकलजी। मैं आपसे भीख नहीं माँग रही बल्कि अपना अभिनय दिखा रही हूँ।”

“पर तुम्हारा तो एक ही हाथ है फिर 2 चूड़ियाँ क्या करोगी? “

“नहीं अंकलजी‚ मेरा हाथ टूटा नहीं है। मैं तो अपाहिज होने का नाटक कर रही हूँ।” कहते हुए उसने फ्राक से हाथ बाहर निकाल लिया।

“तुम एक दिन महान अभिनेत्री बनोगी‚” कहते हुए उस व्यक्ति ने रीना के हाथ में बीस रुपए थमा दिए।

“पर अंकल इतने पैसे।” बत्ती हरी हो चुकी थी। अंकलजी का तिपहिया जा चुका था। लाल से हरी व संतरी होती बत्तियों को बदलते देख रीना सोच रही थी कि क्या वह कभी बड़ी अभिनेत्री बन सकेगी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं