अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

छाले

आपदा में अपने घरों की तरफ़
पैदल ही चल पड़े लाखों क़दम
पैरों में पड़े छालो की आवाज़
आख़िर पहुँच ही गयी
कुछ घड़ी के लिए ही सही
न्यूज़ रूम्स और सत्ता की कुर्सी तक...

 

हाँ ! छाले तो वो भी थे
जिनका एक सतत प्रक्रिया में
बनना और फूटना जारी रहता था
आमा, ईजा, काखी,
बोज्यू और दीदी के हाथों में
चक्की में गेहूँ, मड़वा पीसना हो
या ओखली में धान कूटने हों


हथेली से ऊपर और
उँगलियों की जड़ वाला हिस्सा
अलग ही तरह से मोटा हो जाता था
छालों के फूट-फूट कर चिपक जाने से
आमा, ईजा, काखी फूँक मार देते थे
मुस्कुराते, एक दूसरे के छालों में
मानो सब देव मंत्र जानते हो छालों का


गर्म रोटी छू लेती
चूल्हे में रोटी पलटते कभी-कभार
ईजा के हाथ में बने फफोलों को
दर्द छुपाने का जतन करती
ईजा समेट लेती दर्द मुस्कराहट में
हमें ढाढ़स बढ़ाते कहती
ये कुछ नहीं है पुता, लगा रहता है
तुम अपनी पढ़ाई में ध्यान दो


लकड़ी फाड़ते पापा के छाले
अब मज़बूत हो गए थे
शेर दा के कंधे भी अलग परत लग गयी
पत्थर ढो-ढो कर, छालों से
बड़ी हो रही बेटी की शादी की चिंता
बच्चों को आगे पढ़ाने की जगह
मजबूरी में काम में लगाना
परिवार में कोई बीमार हो और
बिना इलाज के तड़पते मरते देखना
मन में भी पड़ते जा रहे थे छाले
हाथ, पैर और कन्धों के साथ


हाथों, पैरों और कांधे में लगे छाले
वक़्त से मज़बूत होते गये
और यदाकदा दिखते भी रहे  
सत्तासीनों और सत्ता के लालायितों को
मन के छाले अदृश्य ही रहे
निरंतर फफोले बनते रहे फूटते रहे
और कचोटते रहे, कचोटते रहे 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं