अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

छोटा सा ब्रेक

देविका एक बहुत बड़ी कंपनी की उच्च पद पर कार्यरत लड़की थी। ऑफ़िस, घर, बच्चे और पति इन्हीं सब में जूझते-जूझते उसकी ज़िन्दगी कट रही थी कि एक दिन उसके मैनेजर ने एक आवश्यक ट्रेनिंग के लिए एक हफ़्ते के लिए सिडनी जाने के लिए पूछा और अचानक उसके मन में बड़ा सा लड्डू फूटा। उसने एक दिन का समय माँगा, घर पर अपने पति और माता-पिता से सहायता और बच्चों की व्यवस्था तय कर के वो चल पड़ी।

बड़ा सा लड्डू ये था कि एक दिन पहले ही उसे पता चला था की उसका एक बहुत पुराना दोस्त शिशिर भी सिडनी पहुँच रहा है। वे दोनों बचपन के बहुत क़रीबी पड़ोसी थे। देविका की तरह शिशिर भी अपनी गृहस्थी में बहुत व्यस्त और ऊँचे पद की नौकरी की वज़ह से तनावग्रस्त रहता था।

शिशिर और देविका में एक बात जो समान थी वो ये कि इतने साल हो गए थे दोनों को देश छोड़े फिर भी अपनी गली से ज़्यादा प्यारी जगह उन्हें कहीं नहीं लगती थी . . . १५ साल के अंतराल के बाद वाटस अप्प के माध्यम से दोनों कुछ महीने पहले ही जुड़े थे। उन  दोनों में एक बहुत ही प्यारा रिश्ता था जो ना दोस्ती था और ना ही प्यार।

दोनों ने पूरे हफ़्ते की सारी मीटिंग्स के मध्यांतर के दौरान और शाम को होटल लौटने से पहले मिलने का तय कर लिया था।

देखते-देखते वो समय आ गया जब वे दोनों इतने सालों बाद आमने-सामने थे। बहुत ख़ुशी से एक दूसरे से वो मिले, पूरा हफ़्ता ढेर सारी बातें ही बातें की। ऐसी बातें जिनका उन दोनों के वर्त्तमान से कोई सम्बन्ध नहीं था। उनकी बचपन की यादें, गली के लोगों की बातें जिन्हें वो दोनों "गली-समाचार" कहते थे। एक दूसरे को चिढ़ाना, बच्चों जैसा लड़ना, गली के घरों से ले कर तो पेड़-पौधों तक सब-कुछ इतना अच्छे से याद था जैसे दोनों सीधे इंडिया के अपने घर से  सिडने आये हैं। वो पूरा हफ़्ता दोनों बहुत खुश थे. . .

ऑफ़िस का काम, बच्चों की पढ़ाई, घर की ई.एम.आई. (घर की किश्त) पति-पत्नी वाली बातें जैसे कोई विषय ही नहीं निकले. . .

ऐसे लगा मानों दोनों को आम ज़िन्दगी से एक "छोटा सा ब्रेक" मिल गया हो। ऐसा ब्रेक जो आज के इस तनाव ग्रस्त आग जैसे दिनचर्या में सावन की बारिश का मलहम सा लगा गया। उस एक हफ़्ते में मान लो दोनों ने बरसों से मन में दबी हँसी हँस ली, बरसों का दबा हुआ तनाव दिमाग़ से निकाल कर फेंक दिया और वापस एक नए जोश से अपनी-अपनी दैनिक उधेड़-बुन  में गुम हो गए . . .

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं