अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

छोटी-सी जिन्दगी में हंसकर मीठा बोल

करके मोबाइल बंद जाने-मन मुखड़ो मत ना मोड़।
अरे बंद आवे मोबाइल थारो, स्विच ऑफ तो खोल॥
 
'राज' कसम है थारै दिलबर री... नंबर पाछा खोल।
जिन्दगी में अनमोल कइजै प्यार, प्रेम रो रस घोल॥
 
जाने-मन फोन पर मीठी बातां कर पछै सोती।
'राज' प्यार भरी जिंदगी जियो बनो माला के मोती॥
 
जिंदगीभर साथ देने का वचन देय, ऐड़ा किया कोल।
इण छोटी सी जिन्दगी में जीवड़ा सोच समझकर डोल॥
 
राज! कसम है थारै दिलबर री फोन रो स्विच तो खोल।
यूं करके बंद मोबाइल, जीवड़ा ना करो तुम दिल तोड़॥
 
मैसेज लिख नंबर मिलाती, मीठी बातां हरदम करती।
गुड मॉर्निंग-नाइट के साथ, शायरी दोहा तुम लिखती॥
 
दिल की मरजी मालिक जाने, थारै मन री बातां बोल।
राज! कसम है थारै प्रीतम री, मोबाइल रो स्विच खोल॥
 
करके मोबाइल बंद जाने-मन, थै दिलड़ो मति तोड़।
'राज' दिल घबरावै बिन बातां, स्विच ऑफ तो खोल॥
 
राज! म्है सूं कदैई घड़ी पलक जै बात ना होती।
 म्हारै सूं बात बिन थारी आंख्या झिर-मिर रोती॥
 
वो या आंसू झूठा होवता या फिर झूठा वचन कोल।
राज! कसम है थारै दिलबर री फोन रो स्विच खोल॥
 
राज! इयुं मनमुटाव कर खारो रस जिन्दगी में नी घोलो।
मिठी बोली रसभरी, सोच समझकर तोलो अर बोलो॥
 
ऐड़ी कोनी जाणी जानू , म्हारौ दिळड़ौ दे'सी तोड़।
राज! कसम है थारै प्रीतम री, मोबाइल रो स्विच खोल॥
 
गर्ग! 'रावत' आज हिंवड़ै री प्रीत माथै कलम चलावै।
'राज' प्रेम प्यार री जिंदगी, झूठी प्रीत कोई नी लगावै॥
  
'राज' जै थारी प्रीतड़ी सांची होवे तो पाछौ करजै काॅल।
अरे कसम है थारै दिलबर री फोन रो स्विच तो खोल॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अथ स्वरुचिभोज प्लेट व्यथा
|

सलाद, दही बड़े, रसगुल्ले, जलेबी, पकौड़े, रायता,…

अन्तर
|

पत्नी, पति से बोली - हे.. जी, थोड़ा हमें,…

अब बस जूते का ज़माना है
|

हर ब्राण्ड के जूते की  अपनी क़िस्मत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता

कविता

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं