अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चिंता नहीं, चिंतन का विषय

कुछ पाठकों को मेरी बात शायद अटपटी लगे, लेकिन इसे पढ़ने के बाद किसी एक की भी चिंता यदि चिंतन में परिवर्तित हो जाए तो उनका जीवन सुखमय हो सकता है।

हमारे आसपास या हमारे परिचितों ही में हमें कई माता-पिता केवल यही बातें दोहराते सुनाई देते हैं कि किस प्रकार उन्होंने दिन-रात काम करके अपने बच्चों को महँगे से महँगे स्कूल, फिर कॉलेज व यूनिवर्सिटी आदि-आदि भेजा। स्वयं का पेट काट व सालों-साल पुराने कपड़े पहन निर्वाह किया, परन्तु बच्चों को बढ़िया से बढ़िया भोजन, कपड़े, खिलौने इत्यादि की कमी कभी महसूस न होने दी।

कुछ माएँ तो यहाँ तक कहती हैं कि वे सारी परेशानियाँ यही सोच कर सहती रहीं कि जिस बेटे को रात-रात सूखे बिस्तर पर सुला स्वयं गीले पर सोई, उसकी बीमारी में अपनी बीमारी को भूल उसकी दिन-रात सेवा की, मेरा वही बेटा एक दिन मेरे दूध की क़ीमत चुकायेगा। दूसरी तरफ़ पिता दिल ही दिल में सपने सँजोये बैठा रहा कि हमारे बुढ़ापे में यही बेटा हमारी लाठी का सहारा बनेगा। लेकिन जैसे ही वही बेटा बढ़िया नौकरी के चक्कर में उन्हें अकेला छोड़ कहीं दूर दूसरे शहर या दूसरे देश जा बसता है। माँ-बाप के सभी सपने और आशाएँ पंख लगाकर एक पल में ही ग़ायब हो जाते हैं।

यह दुख की बात अवश्य है, लेकिन उन माता-पिता के इस दुख का कारण कौन है? क्या दोष उनके बच्चों का है? जी नहीं, उन बच्चों को आप स्वार्थी तो कह सकते हैं, दोषी नहीं। क्या हम माँ-बाप ने अपने बच्चों के कहने पर उन्हें जन्म दिया था? नहीं! तो उनका पालन-पोषण करना केवल हमारा ही तो कर्तव्य बनता है। हम उनके उज्जवल भविष्य के लिए साधन नहीं जुटाएँगे तो और कौन जुटाएगा? परन्तु यह सब करते हुए बदले में आशा रखना कि आज हम अपने बच्चों की देखभाल इसलिए कर रहे हैं ताकि कल ये हमारी देखभाल कर पाएँ; यह तो उन पर उपकार करने जैसी बात हो गई...और उपकार अपनों पर नहीं, अनजान लोगों पर किया जाता है।

दोषी कोई और नहीं, हम माँ-बाप ही हैं। कर्तव्य निभाते हैं तो साथ ही साथ ढेरों सपने सँजो कर बैठ जाते हैं; उपकार करते हैं तो भूलने की बजाय अपेक्षाओं की पिटारी मन की अटारी पर सँभाल कर रखे रहते हैं। ऐसे में सपने टूटते हैं तो परिणाम में दुख नहीं तो और क्या मिलेगा?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अपना अपना स्वर्ग
|

क्या आपका भी स्वर्ग औरों के स्वर्ग से बिल्कुल…

जीवन की महाडोर
|

भारतीय चिंतन धारा के अनुसार संपूर्ण सृष्टि…

जीवनोपासना
|

जीवन अमृत तुल्य है। मानव के असंख्य पुण्य…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कहानी

चिन्तन

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं