अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चिरैया बिना आँगन सूना

शहर की नई कॉलोनी में नए नए मकान बनते गए। सारी सुविधाओं का ख़्याल रखा गया। बस पुराने ज़माने जैसा रोशनदान नहीं दिखे जिसमें गौरैया, मैना, कबूतर अपना घोंसला बनाते थे।

एक मकान की बालकनी में चिड़ियों को पानी पिलाने की व्यवस्था थी। दो जगह सुंदर ढंग से कटोरी जैसा निर्माण देखा मैंने, जिसमें घर की मालकिन रोज़ पानी डाल देती है।

"जब चिड़ियों को रहने, अंडे देने तथा जोड़ों में रहकर कलरव करने का मौक़ा नहीं दिया, घोंसला बनाने की जगह नहीं दी तो यह कैसी खग प्रीति?"

मेरी बातें सुन पत्नी ने कहा, "देखो जी, हम ज्यों-ज्यों सभ्य होते जा रहे हैं हमारी संवेदना कुंठित होती जा रही है, पशु-प्रेम, मानव प्रेम दिखाने के लिए रह गया है।"

"दादाजी, मैं एक बात कहना चाहता हूँ," दस वर्षीय पोते असीम ने कहा।

"क्या बात कह डालो," मेरी पत्नी ने कहा।

"दादाजी आप जब मकान बनाएँगे तो गौरैया, मैना, कबूतर आदि पक्षियों के लिए अलग से रहने का इंतज़ाम भी करवा देंगे,"असीम ने कहा।

हँसते-हँसते असीम ने दादा-दादी को कविता सुनाई,

"औलाद बिना घर सूना
चिरैया बिना आँगन सूना।"

मैं और मेरी पत्नी अपने पोते की बालसुलभ ख़ुशी के सागर में गोते लगाते रहे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं