अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चित्र बनाना मेरा शौक है

चित्र बनाना मेरा शौक है,
जब भी मन दुखी या उदास होता है,
अकेलापन काटने को दौड़ता है,
मैं कागज़ पर आड़ी-तिरछी रेखायें खींचती हूँ
और ये देख-देख कर- आवाक् रह जाती हूँ कि,
ये रेखायें प्रकृति के कैसे-कैसे गहन रहस्य खोलती हैं।
कागज़ सी धरा पर ये रेखायें,
सीधे, आड़े, लम्बे, खड़े, झुके वृक्ष,
नदी, नाले, पहाड़, सागर,
रेगिस्तान, पठार, सुरंग, व
नाना प्रकार के जीव-जन्तुओं का -
एक अदभुत सा कोलाज बनाती हैं।

यूँ तो चित्र बनाना मेरा शौक है पर-
वास्तव में इस प्राकृतिक कोलाज को देखने का,
एक बहाना भी है
या फिर प्रकृति से निकटता का माध्यम,
अथवा- उससे मेरा सवांद कायम करना,
कुछ भी हो, पर बड़ा रिझाता है, लुभाता है मुझे।

अनायास ही तूलिका कागज़ रँगने लगती है,
जो कभी कलियाँ, कभी फूल, कभी तितली,
कभी भौंरे बन गुनगुनाने लगते हैं।

यूँ तो चित्र बनाना मेरा शौक है पर-
-निरभ्र नील गगन,
आकाश में -पंक्तियों में उड़ते परिंदे,
घर लौटते पक्षियों के दल,
चहचहातीं असंख्य चिड़ियाओं का झुंड
सब कैनवस पर एक अक्स बन रह जाता है।

यूँ तो चित्र बनाना मेरा शौक है पर-
नीले आकाश में –
लाल, नीले, पीले, काले बादल,
उमड़ते-घुमड़ते मेघों के बदलते रंग-रूप,
बादलों में बनते पहाड़, ज्वालामुखी, भालू,
पल-पल बदलती चंचल आकृतियों का,
तूलिका उठाने से पहिले ही बदल जाना,
एक आँख मिचौली का खेल सा होता है।

यूँ तो चित्र बनाना मेरा शौक है पर-
प्रकृति को चित्रित करने का शौक
अनायास ही उस चितेरे की कल्पना में खो जाता है,
जिसकी रचनायें प्रतिक्षण नये नये रंग–रूप में,
इन्द्रधनुषी छटा बिखेर,
मन मोहित कर,
मन हर लेती हैं।
प्राणवान –चेतन, स्पदिंत, स्फुरित रचनायें-
रंगों, चित्रों ,व तूलिका की लक्ष्मण रेखा खींच देती हैं-
और, मेरा मन उस चितेरे की वंदना करने लगता है।
चित्र बनाना मेरा शौक-
पर वह ख़ुद ब ख़ुद उसका भजन बन जाता है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ललित निबन्ध

कविता

लघुकथा

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

स्मृति लेख

बच्चों के मुख से

साहित्यिक आलेख

आप-बीती

बाल साहित्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं