अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चुपके चुपके

चुपके चुपके
कभी कभी वहाँ जाने को 
जी चाहता है


जहाँ मेरा बालपन मुझे बुलाता है -
धीरे-धीरे चुपके चुपके!
वहीं जहाँ खेतों खलिहानों के बीच से 
हम बकरियाँ पकड़ लाया करते थे,
बाबूजी की डाँट से डर कर 
फिर वहीं छोड़ भी आते थे, 
धीरे धीरे चुपके —


साइकिल चला कर जाते, 
वह तखती वाला स्कूल 
जहाँ लड़के ही पढ़ते थे
मैं अकेली लड़की!
मुझे मालूम है वे मुझे देखते थे , 
मेरी किताबें उठा कर 
साथ चलना चाहते,
धीरे धीरे चुपके -


वे छोटे छोटे गाँव 
जिनकी गलियों में हम
बेलाग रस्सी कूदते थे, 
घूँघट से अपने आँगन लीपती 
औरतें देखती थीं
धीरे धीरे —

ट्रकों में भरे गन्ने जो 
दौड़ दौड़ कर लड़के
खींच खींच कर खाते थे
मन तो हमारा भी होता था 
पर डरते थे 
कहीं कोई देख न ले हुड़दंग करते 
सो छुप कर खाते
धीरे धीरे —


बाबूजी गुड़िया लाये तो 
मैं कैसी दौड़ी गई और 
लिपट गई उनसे
माँ ने औरगंडी की पीली फ़्रॉक
शैडो की कढ़ाई कर के बनाई 
जो पहन मैं इतराई
धीरे धीरे —


नानी की कहानियाँ जो 
कई रात तक चलती थीं,
उलटे सीधे गाने जो 
माँ को ख़ुश करने के लिये गाते थे, 
फिर गाने को मन करता है, 
धीरे धीरे —


वह कच्ची अंबियाँ व 
नमक के साथ चटखारे , 
इमली, आम पापड़ जो 
माँ छुपा कर रख देती थीं 
ढूँढ कर खाने को 
मन करता है आज भी
धीरे धीरे —


कहीं भी लुढ़क कर सो जाना, 
माँ जगा कर खिला देगी, 
दूध पिला देगी, 
बाबूजी आकर प्यार से देखेगें, 
सो गये बच्चे?
सुन कर 
आश्वासन महसूस करने को 
अब फिर मन चाहता है
धीरे धीरे चुपके चुपके!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

व्यक्ति चित्र

आप-बीती

सामाजिक आलेख

अपनी बात

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं