अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कोरोना काल - मुक्तक

1. 
इस कोरोना काल में रहिए सब से दूर,
पद और धन का सब नशा हो जाएगा चूर।
हो जाएगा चूर न कोई मिल पाएगा,
अगर लगा यह रोग तो बहुत सताएगा।

2.
इस 2020 ईयर में खेले कोरोना खेल,
अस्पताल बाज़ार हो या हो कोई जेल।
या हो कोई जेल डर यह मन में समाया,
जानें सारे देश रोग यह चीन से आया।

3.
मास्क पहनकर जा रहे,
मुँह देखो है बंद।
गंगा जल को छोड़कर,
सैनिटाइज़र संग।
सैनिटाइज़र संग,
रोग लगा यह कैसा?
डर-डर कर सब जी रहे,
काम ना आवे पैसा।

4.
सहमा-सहमा आदमी,
मुँह पर देखो मास्क।
बन गई सबसे दूरियाँ,
बचना इससे टास्क।
बचना इससे टास्क,
कोरोना सब पर भारी।
सारी रंगत खो गई,
सब तरक़ीबें हारी।

5.
यह बेरोज़गारी की भीड़ और यह निराशा,
यह कोरोना काल और आदमी डरा सा।
मुश्किलों का दौर है सब दिख रहा,
ज़िन्दगी के झंझावात में आदमी पिस रहा।

6.
लोगों के जीवन में डर कैसा है?
अंधकार के प्रहर जैसा है।
अख़बारों की ख़बरें भी डराती हैं,
सहमा-सहमा सा शहर कैसा है?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं