अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

देशभक्त कौन?

मैं देशभक्त नहीं हूँ
देशभक्ति ने दी
समाज को, देश को
ग़रीबी, बेरोज़गारी, महँगाई
आपसी द्वेष 
एक अस्त्र, मिटाने को
भाईचारा, भरने को घृणा
मिटाने को समाज 
फिर देशभक्ति और देशभक्त कौन?


सच्चा देशभक्त तो किसान है
जो करता है मातृभूमि से प्यार
सींचता है, बनाता है बंजर ज़मीन
को उपजाऊ
देश के सैनिक जो रहते हैं
तैयार क़ुर्बानी को


तुम ने तो पहन रखा है काला नक़ाब
ऊपर से एक चश्मा 
जो आर्थिक ग़ुलामी को
बताता है देशभक्ति
मोब लीचिंग को देता है
तमगा देशभक्ति का


तुम हो चुके हो गुमराह
तुम्हारी देशभक्ति में लग चुका है जंग
मतभेद का, ईर्ष्या का 
मरती इंसानियत का
मुबारक़ हो तुम्हें तुम्हारी देशभक्ति
हमें तो चाहिए ऐसा देशभक्त
जो देश के अंदर 
करे आंदोलन शिक्षा के लिए
रोज़गार के लिए, समानता के लिए
बलात्कारियों को सूली पर चढ़ाने के लिए
टैक्स के पैसे से मौज कर रहे 
नेताओं से मुक्ति के लिए
आस्था ने नाम पर बाबाओं से आज़ादी के लिए
संसद में बैठे उन ढोंगियों के लिए
जो पढ़ाते है देशभक्ति का नक़ली पाठ
बाँटते है इंसान को इंसान से 
समाज को समाज से
विचार को मतभेद से 
इंसानियत बचाओ
तभी बचेगा इंसान, बचेगा समाज
बनेगा देश 
तभी बचेगी तुम्हारी देशभक्ति
वरना फ़र्जी देशभक्ति हो तुम्हें मुबारक़
मैं देशभक्त नहीं हूँ।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं