अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

देवता की सीख 

गाँव में एक मंदिर था। मंदिर के पास एक महात्मा जी रहते थे। वे मंदिर के देवता की पूजा और आरती करते थे। 

माधव एक होनहार बच्चा था। वह पढ़ाई में बहुत होशियार था। माधव कभी-कभी महात्मा जी के पास चला जाता था। महात्मा जी उसे बहुत प्यार करते थे। 

एक दिन माधव ने महात्मा जी से पूछा - "बाबा , क्या देवता सचमुच होते हैं?"

"हाँ , बेटा," महात्मा जी ने कहा।

"देवता क्या करते हैं?" माधव ने पूछा। 

"वह सब कुछ कर सकते हैं। सब कुछ दे सकते हैं," महात्मा जी बोले। 

माधव देवता के मंदिर में गया और मन ही मन देवता से कुछ माँगा। उसे लगा देवता ने उसकी बात मान ली है। धीरे-धीरे माधव खेलकूंद पर अधिक ध्यान देने लगा। 

एक दिन माधव ने सपना देखा। देवता सामने खड़े थे। उन्होंने माधव से कहा - "यह सही है कि मैं सब कुछ दे सकता हूँ, किन्तु जो मेहनत करते हैं, उन्हीं को देता हूँ। जो मेहनत नहीं करते, उन्हें कुछ नहीं देता। यदि मैं बिना मेहनत करने वालों को देता रहा, तो सब आलसी हो जायेंगे। तुम्हारा खेलने जाना तो ठीक है परन्तु पढ़ाई पर भी पूरा ध्यान दो। अगर पढ़ाई पर ध्यान नहीं दिया तो दूसरे बच्चे तुमसे आगे निकल जायेंगे।"

नींद से जागने पर माधव ने महात्मा जी को अपने सपने के बारे में बताया। महात्मा जी ने कहा - देवता भी मेहनत करने वाले को ही देते हैं। 

माधव मन लगाकर पढ़ाई करने लगा। परीक्षाफल आया तो वह अपनी कक्षा में पहले स्थान पर था। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अब पछताए होत का 
|

भोला का गाँव शहर से लगा हुआ है। एक किलोमीटर…

चार बेवकूफ़ों की कहानी 
|

मैं और अर्पिता उर्मिला मैम के यहाँ रिविज़न…

जन्मदिन का तोहफ़ा
|

मेरे प्यारे साथियो! आपको कहानियाँ पढ़ना और…

झूठी शान
|

यह कहानी किन्ही राजा-रानी की नहीं, जो घोड़े…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

किशोर साहित्य कविता

बाल साहित्य कविता

किशोर साहित्य कहानी

कविता - हाइकु

दोहे

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं