अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

धूप और बारिश

पंद्रह दिन पहले पति की मृत्यु हो गई थी। श्राद्ध-क्रिया आदि संपन्न हो जाने के बाद क़रीबी रिश्तेदार भी अपने अपने घर वापस जा चुके थे।

चालीस वर्ष की माँ को कमरे में गुमसुम बैठी देख इकलौता बेटा संजीव माँ के घुटने के पास बैठा और उसने कहा, "अब हमलोग कैसे जियेंगे मम्मी, सभी कहते हैं, पिताजी बरगद के पेड़ के समान थे, उनकी छाया से वंचित हो गए हमलोग।"

बारह साल के बेटे की बातें सुन माँ ने उसके माथे पर हाथ फेरते हुए कहा, "बेटा तुम ज़्यादा चिंता नहीं करो, मैं हूँ न, बरगद का पेड़ नहीं बन सकती, तुम्हारे लिए छाता ज़रूर बन सकती हूँ। सुख–दुख की गर्मी बरसात में तुम्हारी रक्षा करूँगी।"

बेटे ने माँ के आँचल से उसकी आँखों को पोंछते हुए कहा, "मम्मी, तुम भी नहीं रोना,पढ़-लिखकर मैं भी बड़ा आदमी बनूँगा और तुम्हारा सहारा भी।"

"ज़रूर बेटा, धैर्य और हिम्मत से हम लोग  आगे का सफ़र तय करेंगे," बेटे को सीने से चिपका कर माँ ने कहा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंतर 
|

"बस यही तुम में और मनोज में अंतर है,…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

कविता-सेदोका

कविता

साहित्यिक आलेख

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं