अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ध्यान

पिछले कुछ दिनों से शालिनी की तबियत ख़राब चल रही थी। तब भी वह सुबह पाँच बजे उठकर दोनों बेटों व बेटी के स्कूल के लिए टिफ़िन बनाती, बच्चों को नाश्ता देती व बच्चों को तैयार कर स्कूल भेजती। बच्चे भी अभी छोटे ही थे ख़ुद से तैयार भी नहीं हो सकते थे। बच्चों के जाने के बाद ज्यों ही बैठती त्यों ही पति आलोक उठ जाते; उनके लिए चाय नाश्ता व टिफ़िन तैयार करती। बीमार होने पर भी लगातार काम करने से उसकी हालत और ख़राब हो गई। आलोक से दो तीन डॉक्टर को दिखाने के लिए कह चुकी थी पर आलोक ध्यान ही नहीं दे रहा था, कहता तुम लोग जब देखो बस तबियत ख़राब है। 

रविवार के दिन सुबह शालिनी उठी लगा गिर ही पड़ेगी सिर भी बहुत तेज़ दर्द होने लगा। छुट्टी होने के कारण बच्चे व आलोक अभी सो ही रहे थे। ब्रश कर एक बिस्किट खाया तुरंत ही उल्टी होने लगी। पति आलोक को जगाया तो बोले अभी ठीक हो जाएगा। लेकिन पाँच मिनट बाद फिर उल्टी शुरू। अब तो लगातार रुक-रुक कर उल्टी होने लगी। शालिनी तो अब उठने चलने में भी दिक्क़त होने लगी। इतने में बेटा अमर उठ गया था उसने पापा को जगाया। आलोक ने उल्टी की दवा दी पर फिर भी उल्टी नहीं रुकी। तब तक दसियों बार उल्टी हो चुकी थी। आलोक भी घबड़ा गया। ख़ैर जल्दी से तैयार हो कर शालिनी से कहो चलो डॉक्टर के यहाँ चलते हैं। हालाँकि शालिनी कई दिनों से डॉक्टर को दिखाने को कह रही थी पर आलोक ने उस पर ग़ौर नहीं किया था। किसी तरह शालिनी कपड़े बदलकर किचेन में गई, कई बार उठ कर व बैठ कर आलोक के लिए चाय व दलिया बनाया। सोचा आलोक ने चाय भी नहीं पी है व डॉक्टर के यहाँ पता नहीं कितनी देर लगेगी। बेटे से चाय व दलिया भिजवाया। जिसे देखते ही आलोक लज्जित हो गया। मन में सोचने लगा कि मैंने तो शालिनी का ध्यान नहीं दिया जब कि कई दिनों से तबियत ख़राब होने की बात बता रही थी। एक शालिनी है जो कि खड़ी भी नहीं हो पा रही है फिर भी मेरा कितना ध्यान रखती है मुझे चाय व दलिया बना कर दिया। आलोक चाय पीकर व दलिया खाकर शालिनी को डॉक्टर के यहाँ ले तो जा रहा था पर उसकी शालिनी से आँखें मिलाने की हिम्मत नहीं हो पा रही थी। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं