अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

डिब्बे में ज़िन्दगी

छोटे छोटे डिब्बों में
बंद हो गई है ज़िन्दगी
जिल्द लगा रहे हैं
बेहतर से बेहतरीन
उनको हम बना रहे हैं

डिब्बा छोटा ही सही
समेट लेता है सारा जीवन
मोबाइल हो या लैपटॉप
दलदल में डूबता जाता है
धीरे धीरे एकांकी जीवन

विषयों ने सूक्ष्म रूप लेकर
कोशिकाओं में संकीर्णता भर दी है
तारों का सम्पर्क भी गल गया है
भाव नहीं, विद्युत ही बसा है इनमें
मरिचिकाओं का मायाजाल बिछा है
स्वप्नों के प्रतिबिंबों में खोया है जीवन।

डिब्बों में खिड़कियाँ तो होती हैं
खुलती है जो फिर एक नये डिब्बे में
डिब्बों के अंदर अनगिनत डिब्बे
हर डिब्बे से बढ़ता कृत्रिम रिश्ता
रिश्तों के एक निरंतर नये उधेड़बुन में
उत्तेजना का मादक ग्रास बन गया है जीवन

जीवन .. जिनमें साँसें थी..
धड़कन थी .. स्पर्श था
आँसू और पसीने की नमी थी!
सुगंध और ठहाकों से भरी हवा थी;
और था एक अंतहीन आकाश -
प्राचीर पर उगाता वो सूरज;
अमावस्या की रात.. पूनम का चाँद..
उमंगों के खेल के मैदान..
सब.... कैसे और कब ..
बंद हो गये उन डिब्बों में;
शायद हो गया है मशीनी मानव का उद्गम -
और यह उसका कृत्रिम मशीनी जीवन!!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं