अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दिनचर्या

वही रोज़ की 
बंधी-बँधाई दिनचर्या है प्रभु,
सुबह देर से उठना,
जागते ही
सबसे पहले मोबाइल उठाना, 
न चाहते हुए भी 
एक-आध घंटा 
चैटिंग-सैटिंग करना।
यदि अख़बार आया हो
तो
सबसे पहले 
उसमें युवा पेज देखना।
कुछ खा पीकर
किताबों में
सिर खपाना
जब तक 
खोपड़ी की नस-नस पिघलने न लगे,
और बीच-बीच में
मोबाइल को देखते रहना।
सप्ताह आध सप्ताह में
कभी
याद आ जाए तो
विश्वविद्यालय का चक्कर लगा आना।
दोपहर में,
दाल-भात-चोखा में ही
छप्पन भोग की कल्पना करना।
खा-पीकर दो घंटे की भरपूर नींद लेना।
सूरज डूब रहा है
बक्शी बाँध,
नागवासुकी मंदिर ,
गंगा के किनारे 
भीड़ बढ़ने लगी है
टहलने का
और दड़बे से 
बाहर निकलने का
समय हो गया है।
किसी चाय की
दुकान पर 
दीये से भी छोटे कुल्हड़ में
चाय पीते हुए 
जूनियर के बीच 
अपने लम्बे इलाहाबादी जीवन का 
अनुभव बखानना।
सब्ज़ी लेकर
देर रात वापस आना
मन करे तो कुछ पढ़ना
नहीं तो खाना खाकर
यदि हों तो
देर रात तक 
महिला मित्रों से चैटिंग करना। 
और सो जाना।
उम्र का पता नहीं
समय अच्छे से कट
रहा है इलाहाबाद में।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं