अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दोहरी मार फ़ेसबुक का प्यार

सुबह-सुबह श्रीमती जी जब चाय लेकर आई, दुखी आत्मा को फ़ेसबुक पर व्यस्त देख झल्ला उठी।

"क्या सुबह-सुबह मोबाइल लेकर बैठ जाते हो। मैं तो तुम्हारी इस आदत से तंग आ गई हूँ।"

वह बड़बड़ाते हुए अंदर चली गई और मैं दुखी आत्मा फिर से फ़ेसबुक पर अभी कुछ सोच ही रहा था कि अचानक मैसेंजर पर उसका मैसेज देखकर ऐसे खिल गया जैसे फूल गोभी का फूल।

उधर से मैसेज आया।

"क्या कर रहे हो?"

मैंने भी जल्दी से प्रति उत्तर में लिखा–"चाय पी रहे हैं, तुम भी पियोगी?"

उधर से मैसेज आया– "आओ मिलकर चाय पीते हैं।" 

उसका आमंत्रण सुनकर गुलाब के फूल की तरह खिलने की बजाय मैं पतझड़ की पत्तियों सा ऐसे सूख गया, जैसे उन पर पाले की मार पड़ गई हो। 

दुखी आत्मा ने उसे दूसरी बातों में उलझाने के उद्देश्य से कहा– "अभी नहीं, फिर कभी; आज मैं बहुत व्यस्त हूँ।"

मैंने व्यस्त पर कुछ ज़ोर देकर इस प्रकार बताया जैसे दुनिया का सबसे व्यस्त इंसान मैं ही हूँ।

उधर से मैसेज आया– "अच्छा अपनी एक न्यू पिक भेजो।"

दुखी आत्मा ने झट से अपने कॉलेज के दिनों की एक प्यारी मुस्कान बिखेरती सुंदर सी फोटो भेज दी। 

उधर से मैसेज आया– "बहुत सुंदर लग रहे हो।"

दुखी आत्मा ने भी एक स्माइल इमोजी भेज दी। 

अभी फ़ेसबुक के प्यार के समुद्र में गोते लगा ही रहा था कि श्रीमती जी की बेसुरी आवाज़ फिर कानों में ऐसे घुली जैसे सौ घंटियाँ एक साथ बजा दी गई हों। उन्होंने मेरे हाथ से मोबाइल को दूर रखते हुए कहा– "ऑफ़िस जाना है कि यहीं पर ही पसरे रहोगे?"

दुखी आत्मा ने एक मुस्कान बिखेरते हुए कहा– "आज बड़ी सुंदर लग रही हो। क्या बात है पर जब ग़ुस्सा करती हो तो बिल्कुल टमाटर जैसे लाल हो जाती हो।" 

दुखी आत्मा की इस बात को सुनकर श्रीमती जी शरमाती हुई बोली– "आप भी ना आपकी आदत नहीं जाएगी।"

 दुखी आत्मा दोनों ओर से संतुष्टि का भाव चेहरे पर लिए–" मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू," गुनगुनाते हुए बाहर निकल गया ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं