अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक अनाथ पत्र

किताबों के शेल्फ के,
सबसे आख़िरी ताख़े पर,
कुछ फ़ाइलें हैं, धूल की सलेटी चादर ओढ़े,
इन फ़ाइलों में बंद कागज़ातों को
वह अपना हिस्सा नहीं मानता,
पर मानने से ही तो नहीं होता,
कुछ रहती हैं हर चौराहे पर सनद की तरह,
रेगिस्तान में बाढ़ की तरह चढ़ आया था वह हिस्सा एक दिन-
रूख़े हाथों और पसीजे दिल से वह,
झाड़-खोल करने लगा,
कुछ पेंसिल स्केच,
अख़बार की कतरनें, पुराने नुस्खे-
इम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज की पुरानी रसीदें
जो अपने पीलेपन में,
बहते मवाद का सूख जाना था,
इन्हीं में दिखी वह चिठ्ठी,
जो डायरी का एक फटा पन्ना था।
चार फ़ोल्ड में सादा और उदास था,
उस सादे में गोलाई हरफ़ें झाँक रहीं थी।
रूख़े हाथ काँपें और आँखों में हल्का कुहासा उतर आया,
वह तो सारी चिठ्ठियाँ जला चुका था।
जब कहीं कुछ नहीं रह गया था,
एक बार, दो बार, कई बार-
हरफ़ों के जंगल में टहलने लगा,
वह चाहता तो चिंदियाँ कर देता उस उदास पन्ने को,
पर नहीं उसे मालूम था,
इस चिठ्ठी को उसे कई बार पढ़ना होगा,
गहरी रातों में, ठिठुरती सर्दी में
बारिश में, दुख में, मौज में
एक आदमी को अनायास ही-
कितनी बार बन जाना पड़ता है।
एक अनाथ पत्र। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं