अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक और निर्भया  

मातादीन को पत्नी ने कल रात भोजन के बाद ऐसा कुछ बताया कि वे फिर रात भर सो न पाए। यूँ तो पिछले कुछ दिनों से उन्हें अपनी सोलह वर्षीया बेटी स्वाति के चेहरे से लग रहा था कि वह किसी उधेड़बुन खोयी रहती है लेकिन तब उन्होंने सोचा था कि किशोरावस्था में बच्चे अक़्सर बहुत से शारीरिक परिवर्तनों से जूझ रहे होते हैं। फलस्वरूप, उन्होंने स्वाति से कुछ भी नहीं पूछा। बहरहाल, कल रात पत्नी ने उन्हें बताया कि पिछले कई दिनों से उस कॉलोनी का एक चर्चित बदमाश निक्का अपने साथियों के साथ स्वाति को जब भी मौक़ा मिलता, तंग कर रहा था। मातादीन रात भर विचार करते रहे कि उन्हें सुबह इस मामले को सुलझाने के लिए क्या करना होगा ?

ख़ैर, वे सुबह उठे और निक्का की तलाश में निकल पड़े। निक्का वहीं पास में एक पान-बीड़ी के खोखे के पास सिगरेट के कश खींच रहा था। जैसे ही वे उसके पास पहुँचकर कुछ बोलते कि तभी निक्का बोल पड़ा, "ससुर जी, आज सुबह-सुबह इधर कैसे?" 

अंदर से आहत मातादीन चुपचाप वापस लौट पड़े। दिन में उनकी पत्नी ने उन्हें थाने में रिपोर्ट करने की सलाह दी। वे तुरंत ही थाने पहुँचे। जैसे ही वे थाने के अहाते में पहुँचे, उन्हें यह देखकर आश्चर्य हुआ कि निक्का चौकी इंचार्ज के साथ सिगरेट फूँकते हुए ठहाके लगा रहा था। वे बोझिल क़दमों से वापस लौटते हुए अब उन वादों के बारे में सोच रहे थे जो निर्भया कांड के बाद सरकार ने जनता से किये थे।  

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं