अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

एक भ्रमर की यात्रा

श्रावण का महीना चल रहा था
पर,
पेड़ ठूँठ से खड़े थे
कुछ नव किसलय जो
उगे थे चंद पेड़ों पर
शुककीट उन किसलयों को
चट करने में रत थे
उदित हुआ था सूर्य अभी-अभी।


एक भ्रमर जगा नींद से
काला...
कोयले से भी ज्यादा
उड़ा, पहुँचा एक बगीचे में
तितलियों औ' मधुमक्खियों ने
पहले ही से
डाल रखा था डेरा उस बगीचे में
पर....
यह क्या ????


हर पौधा तो हरा- भरा था
किंतु मधुविहीन हो चले थे पुष्प।
न मिल पा रहा था
एक भी सुमन
कि वे अपनी तृषा मिटा सकें।
प्रतिद्वंद्विता मची थी फिर भी
तितलियों औ' मधुमक्खियों में
लेह रहे थे ओस.......
देखकर मन क्षुब्ध हो गया भ्रमर का
उड़ चला वह
इस बाग़ से उस बाग़
हर बाग़ की थी यही कहानी
न था कहीं मधु उच्छवसित
थक गया वह उड़ते उड़ते
पर रुका नहीं वह
रुकता तो शायद मर जाता
अपनी ही भूख चबाकर खाता।


सोचा, मिलता चलूँ कमलिनी से
वह तो ज़रूर बाँटेगी उसका दुःख।
गया कमलिनी के पास
पर...
कमलिनी ने उसकी और देखा तक नहीं।
उसने देखा
शतदलों में उसकी कोई और ही
पनाह पा रहा था
उन दलपुंजों के बीच स्थित
अंडकोष पर अपना मधु लुटा रहा था।


खिन्न हो गया जी उसका
हो गया निराश
कुछ न बोला, कुछ न बोला
कुछ न बोला अपनी धुन में बस यही गाता रहा
ये कौन सा रिश्ता है?


उड़ चला वह वहाँ से भी
मधु की तलाश में
उड़ता ही रहा
सचमुच जवाब दे दिया था
उसके पंखों ने
तलमलाकर गिर पड़ा
एक सड़क के किनारे-
दम घुट रहा था उसका
धुएँ से, शोर से, प्रदूषण से।


वह षट्पद अपने नन्हें पैरों से
रेंगने लगा
जा पहुँचा पास ही बहती नाली के समीप
नाली के ही नर्दम जल से पोषण पा
जी रहा था एक पौधा भी वहीं
एक पुष्प भी खिला हुआ था
उस पौधे पर
पौधे की कमज़ोर तने से ऊपर वह लगा रेंगने
जा पहुँचा उस पुष्प तक
उस अधोमुखी मृतप्राय फूल
को लगा चूसने वह भ्रमर
कि शायद मधु मिल जाए


मैंने देखा-
पास ही पत्थर तोड़ती मजदूरनी
के झूले हुए स्तन से
कुपोषण का शिकार एक शिशु
चूस रहा था प्राण।
मैंने देखा-
पश्चिम दिशा में सूर्य ने
मूँद ली अपनी आँखें
और अस्त हुआ
छाने लगा अँधेरा।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं